महाराष्ट्र के मंत्री ने अमिताभ बच्चन का दिया हवाला, कहा- छात्रों के जीवन से खेलना बंद करे केंद्र

महाराष्ट्र के मंत्री ने अमिताभ बच्चन का दिया हवाला, कहा- छात्रों के जीवन से खेलना बंद करे केंद्र
अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) हाल ही में कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाए गए हैं.

पिछले महीने, महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में बढ़ते कोरोनावायरस मामलों के कारण विभिन्न विश्वविद्यालयों में अंतिम वर्ष और अंतिम सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द कर दिया था.

  • Share this:
महाराष्ट्र के उच्च शिक्षा और तकनीकी शिक्षा मंत्री, उदय सामंत ने रविवार को, परीक्षा पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के दिशानिर्देशों पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा, कोरोनवायरस राज भवन जैसी "सुरक्षित जगह" पर हो गया और उसने अमिताभ बच्चन को भी संक्रमित किया. क्या एचआरडी और यूजीसी अब सहमत होंगे कि परीक्षा आयोजित करना छात्रों के जीवन के साथ खिलवाड़ है.

पिछले महीने, महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में बढ़ते कोरोनावायरस मामलों के कारण विभिन्न विश्वविद्यालयों में अंतिम वर्ष और अंतिम सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द कर दिया था. साथ ही कहा था कि परीक्षण के लिए उपस्थित होने के इच्छुक उम्मीदवार अपने संबंधित संस्थानों को लिखित रूप में सूचित कर सकते हैं.

शनिवार को, दिल्ली सरकार ने राज्य सरकार द्वारा संचालित सभी विश्वविद्यालयों में आखिरी सेमेस्टर और अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को रद्द करने का फैसला किया. जिसके बाद यूजीसी ने कहा कि राज्यों को इस तरह की कार्रवाई करने की अनुमति नहीं थी.



उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे ने द हिंदू को बताया, यूजीसी अधिनियम के अनुसार राज्य सरकारें यह निर्णय नहीं ले सकती. स्कूली शिक्षा के अलावा, जो राज्य सूची में है. उच्च शिक्षा concurrent list में है. UGC और AICTE के निर्देशों को लागू किया जाना चाहिए.
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने 6 जुलाई को घोषणा की थी कि देश में कोविड -19 मामलों में स्पाइक के मद्देनजर विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को जुलाई से स्थगित कर सितंबर के अंत तक आयोजित की जानी हैं.

इससे पहले, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को एक पत्र में, सामंत ने कहा कि यूजीसी के परीक्षा पर दिशानिर्देश सलाह होनी चाहिए, अनिवार्य नहीं.

ये भी पढ़ें-
CBSE Result 2020: 10वीं, 12वीं के स्टूडेंट्स को ऐसे मिलेगी डिजिटल मार्कशीट
IIT, JEE का सिलेबस बदलने पर क्या बोले आईआईटी और एनटीए के अधिकारी, जानें

कई राज्यों ने कोविड -19 स्थिति के मद्देनजर दिशा-निर्देशों को अव्यावहारिक करार दिया है. कुछ मुख्यमंत्रियों ने भी प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर उनके हस्तक्षेप की मांग की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading