बड़ी खबर : 4 महीने के इंतजार के बाद खुले स्कूल, एक बेंच पर एक स्टूडेंट ने की पढ़ाई

बड़ी खबर : 4 महीने के इंतजार के बाद खुले स्कूल, एक बेंच पर एक स्टूडेंट ने की पढ़ाई
देशभर के स्कूल पिछले 4 महीने से बंद हैं.

कोरोना वायरस के कहर के चलते देशभर के स्कूलों को गत 16 मार्च को ही बंद कर दिया गया था. यहां तक कि कॉलेज-यूनिवर्सिटीज समेत सभी शिक्षण संस्थानों को बंद कर दिया गया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस की वजह से 16 मार्च को बंद किए गए शिक्षण संस्थानों को खोले जाने को लेकर सुगबुगाहट लगातार जारी है. हालांकि अलग-अलग बयानों के बीच हाल ही में केंद्र सरकार ने निर्देश जारी कर साफ कर दिया था कि देश में स्कूल कॉलेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान 31 जुलाई तक बंद रखे जाएंगे. मगर इस बीच, टाइम्सनाउ की रिपोर्ट के अनुसार, करीब चार महीने के इंतजार के बाद अब स्कूल दोबारा खोल दिए गए हैं. यहां तक कि स्कूल में शारीरिक उपस्थिति के साथ बच्चों की पढ़ाई भी शुरू हो गई है. आइए, आपको बताते हैं कि आखिर कौन से स्कूल अब खुल गए हैं.

महाराष्ट्र में खुले स्कूल
दरअसल, कोरोना वायरस की वजह से महाराष्ट्र में स्कूल लंबे समय से बंद हैं. मगर अब राज्य सरकार के स्टैंडर्ड आपरेटिंग प्रोसीजर रिलीज करने के बाद क्लासेज शुरू हुई हैं. इसके तहत दो जिलों चंद्रपुर और गढ़चिरौली में स्कूल दोबारा खोल दिए गए हैं. इन स्कूलों में नौवीं, दसवीं और बारहवीं कक्षा के लिए पढ़ाई शुरू हो गई है. रिपोर्ट के अनुसार ये स्कूल इसी हफ्ते खोले गए हैं. इस दौरान एक बेंच पर एक स्टूडेंट को बैठाकर पढ़ाई कराई गई.

जिन इलाकों में कोरोना का एक भी केस नहीं, वहां खुले हैं स्कूल
राज्य सरकार के आदेश में साफ किया गया है कि स्कूल ऐसे ही इलाकों में खोले जा सकेंगे जहां पिछले एक महीने से कोरोना वायरस का एक भी केस नहीं होगा. इसके अनुसार, स्कूल मैनेजमेंट कमेटी, स्थानीय प्रशासन ये तय करेगा कि स्कूल दोबारा खोले जाने चाहिए या नहीं.



ये भी पढ़ें
ICSE/ISC result 2020: घर बैठे ऐसे मिलेगी मार्कशीट और माइग्रेशन सर्टिफिकेट

मिसाल: झुग्गियों में हुई थी इस MBBS डॉक्टर की बेइज्जती, फिर IAS बनकर किया कमाल

गढ़चिरौली में 170 तो चंद्रपुर में खुले 20 स्कूल
एजुकेशन डिपार्टमेंट के एक अधिकारी के अनुसार, गढ़चिरौली में 1497 में से 170 स्कूलों में पढ़ाई शुरू हुई, वहीं चंद्रपुर में 20 स्कूल खोले गए. स्कूलों में सैनिटाइजर उपलब्ध कराने का काम ग्राम पंचायत कर रही है. मधेली गांव में स्कूल सिर्फ तीन घंटों के लिए खुलता है, जिसमें पांच कक्षाएं ली जाती हैं. इसमें स्टूडेंट्स को कोई ब्रेक नहीं मिलता.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading