Maharashtra SSC 10th results 2020: नेत्रहीन छात्राओं के NFBM जागृति स्कूल का रिजल्ट रहा 100 %

Maharashtra SSC 10th results 2020: नेत्रहीन छात्राओं के NFBM जागृति स्कूल का रिजल्ट रहा 100 %
महाराष्ट्र बोर्ड ने दसवीं परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है.

स्कूल की प्रिंसिपल मंगला खुंते (Mangala Khunte) ने कहा, 23 सालों से हमारा विद्यालय 100 प्रतिशत परिणाम प्राप्त करने में सफल रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. नेत्रहीन छात्राओं के NFBM जागृति स्कूल की दिव्यांग छात्राओं ने SSC एग्जाम में 100 फीसदी रिजल्ट हासिल किया. ये स्कूल अलांदी देवाची पुणे का है. स्कूल (NFBM Jagriti School for Blind Girls Alandi) की प्रिंसिपल मंगला खुंते (Mangala Khunte) ने कहा, 23 सालों से हमारा विद्यालय 100 प्रतिशत परिणाम प्राप्त करने में सफल रहा है.

9 स्टूडेंट्स ने 10वीं के पेपर दिए
प्रिंसिपल ने कहा, इस साल हमारे स्कूल की 9 स्टूडेंट्स ने SSC exam में 10वीं के पेपर दिए थे. इन सभी ने न केवल परीक्षा पास की बल्कि उनकी उपलब्धियों ने हमारी संस्था को गौरवान्वित किया.

जागृति के चार दृष्टिहीन सितारों की अकादमिक उपलब्धियां बेहतर रहीं. जिसमें से कुमारी तेजस्विनी दहातोंडे (Kumari Tejaswini Dahatonde) 90% नंबरों के साथ स्कूल में पहले नंबर पर रहीं. वे अपनी आगे की पढ़ाई आर्ट्स स्ट्रीम से करना चाहती हैं और IAS ऑफिसर बनना चाहती हैं.
88 फीसदी नंबर पाकर दूसरे नंबर पर 


प्रजाक्ता तमकर (Prajakta Tamkar) 88 फीसदी नंबर पाकर दूसरे नंबर पर रहीं. उसने भी स्कूल प्रबंधन और शिक्षकों का आभार व्यक्त किया. उसने कहा, माता-पिता ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, वह बैंकिंग में अपना करियर बनाना चाहती हैं.

रूपाली गवेली और वैष्णवी नवदकर 87 प्रतिशत अंकों के साथ तीसरे और चौथे स्थान पर रहीं. इस साल के रिजल्ट की एक और विशेषता यह है कि स्कूल के सभी छात्र जो बोर्ड परीक्षा के लिए उपस्थित हुए थे, उन सभी ने डिस्टिंक्शन पाई.

महाराष्ट्र एसएससी परिणाम: 95% से अधिक छात्र उत्तीर्ण
महाराष्ट्र माध्यमिक विद्यालय प्रमाण पत्र (एसएससी-कक्षा 10) परीक्षा के परिणाम बुधवार को घोषित कर दिए गए. इनमें 95 प्रतिशत से अधिक छात्र उत्तीर्ण हुए हैं. महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की अध्यक्ष शकुंतला काले ने बताया कि एसएससी परीक्षा में कुल 95.30 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए हैं. इनमें भी लड़कियों ने लड़कों को पीछे छोड़ दिया.

ये भी पढ़ें-
Uttarakhand board result 2020: किसान के बेटे मुकेश बने 12वीं में थर्ड टॉपर
13 साल की लड़की ने पास किया 12वीं का एग्जाम, अब B.Com डिग्री पर निगाहें

उन्होंने बताया कि परीक्षा में 96.91 प्रतिशत लड़कियां और 93.90 प्रतिशत लड़के उत्तीर्ण हुए हैं. परीक्षा के लिए 15,84,264 छात्रों ने पंजीकरण कराया था, जिसमें 15,75,103 छात्रों ने परीक्षा दी और 15,01,105 छात्र उत्तीर्ण हुए. परीक्षाएं मार्च में हुई थी. काले ने बताया कि राज्य के विभिन्न संभागों में से कोंकण के सर्वाधिक 98.77 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए, जबकि औरंगाबाद संभाग में सबसे कम 92 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading