फाइनल इयर परीक्षा को लेकर महाराष्ट्र के मंत्री ने दिया ये बयान, जानें किस मोड में होगा एग्जाम

फाइनल इयर परीक्षा को लेकर महाराष्ट्र के मंत्री ने दिया ये बयान, जानें किस मोड में होगा एग्जाम
फाइनल इयर एग्जाम को लेकर मंत्री ने बयान दिया है.

यूनिवर्सिटीज़ का भी यही मत था कि कोविड-19 के समय में छात्रों के लिए बाहर निकलना और परीक्षा देना काफी मुश्किल होगा. उन्होंने कहा कि बुधवार को घोषणा की जाएगी कि परीक्षा किस मोड में ली जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 8:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जहां पूरे देश में यूनिवर्सिटीज़ में परीक्षा करवाए जाने को लेकर विवाद हो रहा है. वहीं महाराष्ट्र सरकार में राज्य मंत्री उदय सामंत ने सोमवार को कहा है कि महाराष्ट्र के ज्यादातर नॉन-एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटीज़ ने सरकार से कहा है कि वह यूजीसी से अपील करे कि फाइनल इयर एग्जाम को कंडक्ट करा के 31 अक्टूबर तक रिजल्ट घोषित करने की अनुमति दे. राज्य में 13 गैर-कृषि यूनिवर्सिटीज़ हैं. इनमें अमरावती यूनिवर्सिटी और यशवंतराव चव्हाण महाराष्ट्र ओपन यूनिवर्सिटी ने 10 नवंबर तक परीक्षा करवा के रिजल्ट घोषित करने की बात कही है.

कोविड-19 में छात्रों का निकलना है मुश्किल
अन्य यूनिवर्सिटीज़ का भी यही मत था कि कोविड-19 के समय में छात्रों के लिए बाहर निकलना और परीक्षा देना काफी मुश्किल होगा. उन्होंने कहा कि बुधवार को घोषणा की जाएगी कि परीक्षा किस मोड में ली जाएगी. मंत्री ने कहा कि परीक्षा अक्टूबर के पहले हफ्ते में करवाई जा सकती है. साथ ही इसके अंक भी कुछ कम हो सकते हैं. बता दें कि पूरी यूनिवर्सिटी से 7,62,962 छात्र शामिल होंगे.

बताया परीक्षा का मोड
मंत्री ने कहा कि यूनिवर्सिटीज़ ने ये भी निवेदन किया है कि राज्य आपदा प्रबंधन मैनेजमेंट अथॉरिटी के साथ मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे मीटिंग करके यूजीसी को रिक्वेस्ट भेजें. मंत्री ने कहा कि ये मीटिंग बुधवार को हो सकती है. जब मंत्री से परीक्षा के मोड के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वाइस चांसलर तीन मोड से- ऑनलाइन, ओपन बुक और असाइनमेंट, परीक्षा करवाने का सुझाव दिया है.



ये भी पढ़ें-
असिस्टेंट टीचर एग्जाम के लिए DEE असम फाइनल रिजल्ट dee.assam.gov.in पर जारी, चेक करें डायरेक्ट लिंक
नीट, जेईई के लिए करें सुरक्षा के व्यापक इंतजाम, निशंक का गोवाके CM से आग्रह


बता दें कि यूजीसी की गाइडलाइन्स मानते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पिछले हफ्ते कहा था कि कोई भी यूनिवर्सिटी फाइनल ईयर/सेमेस्टर के छात्रों को बिना परीक्षा लिए प्रमोट नहीं कर सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज