लाइव टीवी

इस राज्य के कर्मचारियों की जा रही थी 2000 से ज्यादा नौकरियां, लगी रोक, जानें वजह

News18Hindi
Updated: November 10, 2019, 10:19 AM IST
इस राज्य के कर्मचारियों की जा रही थी 2000 से ज्यादा नौकरियां, लगी रोक, जानें वजह
अदालत ने ममाले की सुनवाई के लिए पांच दिसंबर की तारीख मुकर्रर की है .

इस साल 11 जुलाई को राज्य सरकार (मंत्रिमंडल) ने एक प्रस्ताव पारित कर सामान्य वर्ग में विभिन्न पदों पर नियुक्त दो हजार से अधिक उम्मीदवारों को हटाने का निर्देश दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2019, 10:19 AM IST
  • Share this:
महाराष्ट्र में मराठा समुदाय के लोगों को नौकरी देने के लिए सामान्य वर्ग में सरकारी नौकरी कर रहे दो हजार से अधिक लोगों की सेवायें समाप्त करने के प्रदेश सरकार के फैसले पर बाम्बे उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को अंतरिम रोक लगा दी है .

इस साल 11 जुलाई को राज्य सरकार (मंत्रिमंडल) ने एक प्रस्ताव पारित कर सामान्य वर्ग में विभिन्न पदों पर नियुक्त दो हजार से अधिक उम्मीदवारों को हटाने का निर्देश दिया था. इस प्रस्ताव में कहा गया था कि इन पदों पर अब मराठा समुदाय के सामाजिक एंव शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्ग के उम्मीदवारों की नियुक्ति की जाएगी .

महाराष्ट्र विधानसभा ने 30 नवंबर 2018 को एक विधेयक पारित कर सरकार द्वारा शैक्षिक एवं सामाजिक रूप से पिछड़ा घोषित मराठा समुदाय को शिक्षा एवं सरकारी नौकरियों में आरक्षण देने की व्यवस्था की थी. जिन लोगों की सेवा समाप्त कर दी गयी है उनमें से 20 लोगों ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था .

न्यायमूर्ति आर वी मोरे और न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की खंडपीठ ने इस प्रस्ताव पर अंतरिम रोक लगाते हुए मामले में सरकार को यथा स्थिति बनाये रखने का निर्देश दिया . अदालत ने ममाले की सुनवाई के लिए पांच दिसंबर की तारीख मुकर्रर की है. (इनपुट-भाषा)

ये भी पढ़ें-
UP Board Class 10 English Model Paper 2020 जारी, यहां करें चेक
UPSC recruitment notification: 151 वैकेंसी के लिए अप्लाई की लास्ट डेट 29 Nov
Loading...

CBSE exam 2020: स्टूडेंट्स के लिए मुश्किल हुआ प्रैक्टिकल एग्जाम में नंबर पाना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 8:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...