अब विदेश से MBBS करना हुआ ज्यादा मुश्किल, दाखिले के लिए आई ये नई शर्तें

सूत्रों के मुताबिक अब विदेश से एमबीबीएस के लिए भी एनईईटी जरुरी किया जाएगा. विदेशी मेडिकल संस्थानों में दाखिले के लिए नई शर्तें अगले सत्र से लागू हो सकती हैं.

hindi.moneycontrol.com
Updated: February 12, 2018, 11:46 AM IST
अब विदेश से MBBS करना हुआ ज्यादा मुश्किल, दाखिले के लिए आई ये नई शर्तें
अब विदेश से MBBS करने हुआ ज्यादा मुश्किल, दाखिले के लिए आई ये नई शर्तें
hindi.moneycontrol.com
Updated: February 12, 2018, 11:46 AM IST
पढ़ाई में कमजोर छात्र अब सिर्फ पैसे के दम पर विदेश में मेडिकल की डिग्री लेने नहीं जा पाएंगे. सरकार ने ऐसे स्टूडेंट पर सख्ती करने जा रही है. सीएनबीसी-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक सरकार ने विदेशी मेडिकल संस्थानों में दाखिले के लिए नई शर्तें रख दी है.

ये होंगी नई शर्तें
सूत्रों के मुताबिक अब विदेश से एमबीबीएस के लिए भी एनईईटी जरुरी किया जाएगा. विदेशी मेडिकल संस्थानों में दाखिले के लिए नई शर्तें अगले सत्र से लागू हो सकती हैं. एनईईटी पास करने पर ही एमसीआई का ईसी सर्टिफिकेट मिलेगा. एनईईटी क्वालीफाई करने के लिए 50 फीसदी जरूरी है.

अभी कितने छात्र पास कर पाते हैं एग्जाम

अब बिना ईसी के विदेश में दाखिला मुश्किल है. साथ ही ईसी सर्टिफिकेट के बिना भारत में प्रैक्टिस की इजाजत नहीं होगी. नए शर्तों के अनुसार अब प्रैक्टिस के लिए फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट एग्जाम यानि एफएमजीई पास करना अनिवार्य होगा.

आपके पास भी हैं दादा जी के खरीदे शेयर तो ऐसे करें ट्रांसफर!
Loading...
बता दें कि सालाना 11.5 लाख छात्र एनईईटी का फॉर्म भरते हैं, लेकिन 6 लाख बच्चे एनईईटी पास करते हैं जबकि डेंटल और एमबीबीएस मिलाकर सिर्फ 63,800 सीट होती है. वहीं 30 हजार छात्र एमबीबीएस करने विदेश जाते हैं जबकि 14 हजार विदेशी डिग्री धारक एफएमजीई में बैठते हैं.
Loading...

और भी देखें

Updated: November 19, 2018 10:16 AM ISTTET: निर्धारित तिथि से पहले 5 दिसंबर तक जारी हो सकता है रिजल्ट
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर