मिडिल स्कूल की बोर्ड परीक्षाएं फिर से कराने की तैयारी में मिजोरम सरकार

परिजनों ने शिकायत की है, छात्र पढ़ाई को लेकर लापरवाह हो गए हैं

अकादमिक वर्ष 2020-21 से आठवीं कक्षा में एमएसएलसी को फिर से बहाल किया जाएगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. मिजोरम सरकार 10 साल के अंतराल के बाद, मिडिल स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट (एमएसएलसी) बोर्ड की परीक्षाएं फिर से बहाल करने की तैयारी कर रही है. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

    आठवीं कक्षा में एमएसएलसी फिर से
    स्कूली शिक्षा विभाग की सचिव एसथर लालरुआत्किमी ने न्यूज एजेंसी को बताया कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये नए अकादमिक वर्ष 2020-21 से आठवीं कक्षा में एमएसएलसी को फिर से बहाल किया जाएगा.

    उन्होंने कहा कि शिक्षा का अधिकार कानून के तहत लागू मौजूदा सतत एवं व्यापक मूल्यांकन (सीसीई) मिजोरम के छात्रों के लिये लाभकारी नहीं है.

    छात्र पढ़ाई को लेकर लापरवाह 
    स्कूली शिक्षा सचिव ने कहा कि अध्यापक और परिजनों ने भी शिकायत की है कि सीसीई पेश किये जाने के बाद से छात्र पढ़ाई को लेकर लापरवाह हो गए हैं.

    12वीं बोर्ड का रिजल्ट
    मिजोरम में मिडिल स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट बोर्ड की परीक्षाएं फिर से शुरू होने के अलावा मिजोरम बोर्ड रिजल्ट्स की बात करें तो मिजोरम बोर्ड आफ स्कूल एजुकेशन यानी एमबीएसई ने 12वीं क्लास का रिजल्ट 14 जुलाई को घोषित कर दिया. इस साल बारहवीं की परीक्षा में 12 हजार 334 छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया था.

    ये भी पढ़ें-
    Uttarakhand board result 2020: किसान के बेटे मुकेश बने 12वीं में थर्ड टॉपर
    13 साल की लड़की ने पास किया 12वीं का एग्जाम, अब B.Com डिग्री पर निगाहें

    10वीं बोर्ड का रिजल्ट
    मिजोरम बोर्ड ने दसवीं के नतीजे इस साल मई में ही घोषित कर दिए थे. दसवीं की परीक्षा 12 हजार 324 स्टूडेंट्स ने दी थी, जिनमें से कुल पास प्रतिशत 68.33 रहा था. 500 में से 476 अंकों के साथ संयुक्त रूप से तीन छात्रों ने टॉप किया था. इनमें से दो लड़कियां थीं. दिलचस्प बात है कि इस साल दसवीं में टॉप करने वाले तीनों स्टूडेंट्स राज्य के एक ही स्कूल से हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.