नवोदय विद्यालय में स्टूडेंट्स के सुसाइड की जांच के लिए सरकार ने बनाई कमेटी

सरकार की ये कमेटी उन परिस्थितियों पर विचार करेगी जिनके चलते नवोदय आवासीय विद्यालयों के छात्रावास में रह रहे छात्रों को आत्महत्या करने पर मजबूर होना पड़ा. साथ ही ये कमेटी आत्महत्या पर रोक लगाने के तरीके एवं साधनों का सुझाव भी देगी.

भाषा
Updated: January 4, 2019, 3:29 PM IST
नवोदय विद्यालय में स्टूडेंट्स के सुसाइड की जांच के लिए सरकार ने बनाई कमेटी
प्रकाश जावड़ेकर (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: January 4, 2019, 3:29 PM IST
मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) ने 2013 से 2017 के बीच जवाहर नवोदय विद्यालयों (जेएनवी) में 49 छात्रों की कथित आत्महत्या के पीछे की परिस्थितियों का पता लगाने के लिए एक कमेटी बनाई है. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि मंत्रालय ने 630 नवोदय विद्यालयों में से प्रत्येक में दो पूर्णकालिक काउंसलर (एक महिला एवं एक पुरुष) रखने संबंधी एक प्रस्ताव को भी मंजूरी के लिए व्यय विभाग को भेज दिया है.

ये भी पढ़ें- भारतीय मूल के इस लड़के ने ‘वर्ल्ड मेमोरी चैंपियनशिप’ में जीता गोल्ड मेडल

बयान में बताया गया कि मंत्रालय ने 31 दिसंबर 2018 को एचआरडी मंत्रालय की स्वीकृति के साथ डॉ.जितेंद्र नागपाल की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की थी जो नवोदय विद्यालयों में हुई छात्रों की कथित आत्महत्या के कारणों का पता लगाएगी. सरकार की  ये कमेटी उन परिस्थितियों पर विचार करेगी जिनके चलते नवोदय आवासीय विद्यालयों के छात्रावास में रह रहे छात्रों को आत्महत्या करने पर मजबूर होना पड़ा. साथ ही ये कमेटी आत्महत्या पर रोक लगाने के तरीके एवं साधनों का सुझाव भी देगी.



ये भी पढ़ें- 'हिंदी मीडियम' वाले पास नहीं कर पा रहे UPSC के एग्जाम, 2018 में केवल 8 हुए सफल

इससे पहले राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने मामले के संबंध में एचआरडी मंत्रालय को नोटिस भेजा था. एनएचआरसी ने एक बयान में कहा कि खबरों के मुताबिक, “सात छात्रों के अलावा बाकी सभी ने फंदे से लटक कर आत्महत्या की थी और उनके शव या तो उनके सहपाठियों ने ढूंढे या स्कूल स्टाफ के सदस्यों ने.”

ये भी पढ़ें- सरकार ने किया साफ, सिविल सर्विसेज़ की अधिकतम आयुसीमा में नहीं होगा बदलाव

जवाहर नवोदय विद्यालय पूरी तरह आवासीय विद्यालय हैं और नवोदय विद्यालय समिति इनका संचालन देखती है. यह समिति मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संस्थान है.
Loading...

एजुकेशन की दूसरी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...