21 केंद्रीय विद्यालयों के भवन असुरक्षित, HRD के ऑडिट में हुआ खुलासा

देश भर में 21 केंद्रीय विद्यालयों के भवन असुरक्षित हैं. ये बात ऑडिट में सामने आई है. ऑडिट में कहा गया है कि ये इमारतें दशकों पुरानी है. इनमें अब स्‍कूल संचालित करना सुरक्षित नहीं है.

News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 4:50 PM IST
21 केंद्रीय विद्यालयों के भवन असुरक्षित, HRD के ऑडिट में हुआ खुलासा
21 केंद्रीय विद्यालयों के भवन असुरक्षित, HRD के ऑडिट में हुआ खुलासा
News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 4:50 PM IST
देश भर में 21 केंद्रीय विद्यालयों के भवन असुरक्षित हैं. ये बात ऑडिट में सामने आई है. ऑडिट में कहा गया है कि ये इमारतें दशकों पुरानी है. इनमें अब स्‍कूल संचालित करना सुरक्षित नहीं है. इनमें सबसे ज्‍यादा बिल्‍डिंग महराष्‍ट्र में हैं. मीडिया से बातचीत में मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय के  एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ऑडिट रिपोर्ट के अनुसार, 21 केवी इमारतें असुरक्षित है, जबकि उनमें से 18 आंशिक रूप से असुरक्षित पाई गई हैं, तीन को पूरी तरह से असुरक्षित घोषित किया गया है. पूरी तरह असुरक्षित पाई गई तीन केवी इमारते गुजरात और महाराष्ट्र में हैं.

कुल भवनों में दो भवन उत्तर प्रदेश, दो गुजरात और एक-एक त्रिपुरा, मेघालय, केरल, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश और सिक्किम में हैं. अधिकारी ने कहा कि असुरक्षित स्कूलों के प्रतिस्थापन के काम को चार केवी में मंजूरी दी गई है, जिसमें से एक गुजरात में और तीन महाराष्ट्र में हैं. गौरतलब है कि केंद्रीय विद्यालय संगठन स्कूल में लगभग 260 केंद्रीय विद्यालयों का संचालन अस्थायी परिसर (temporary premises) में होता है. इनमें सबसे ज्‍यादा ऐसे  मध्य प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और बिहार में है.

वहीं संगठन देश में लगभग 1206 केंद्रीय विद्यालयों का संचालन करता है. इसके अलावा तीन स्कूल विदेश में भी होता है.  बता दें कि ये ऑडिट केंद्रीय विद्यालय संगठन ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान और सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों के माध्यम से दस साल से अधिक पुरानी इमारतों पर किया था.

यह भी पढ़ें : 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 4:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...