लाइव टीवी

Success Story: मां ने घर-घर जाकर बनाई रोटियां और पिता ने बेची चाय, बेटा बना IAS अधिकारी

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 9:53 AM IST
Success Story: मां ने घर-घर जाकर बनाई रोटियां और पिता ने बेची चाय, बेटा बना IAS अधिकारी
सफीन हसन ने दूसरे ही प्रयास में क्रैक किया UPSC एग्जाम

दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत के साथ, हर कठिनाई को हराया जा सकता है और सफीन हसन की कहानी इसका जीता-जागता उदाहरण है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 9:53 AM IST
  • Share this:
Success Story: जिस माता-पिता ने अपनी नौकरी खो दी हो कल्पना कीजिये कि उस बच्चे ने जीवन में कितनी मुश्किलों का सामना किया होगा. आज की सक्सेस स्टोरी में हम आपको गुजरात के सूरत में रहने वाले सफीन हसन की कहानी से रूबरू कराने जा रहे हैं. जिसने विपरीत हालातों में भी हार नहीं मानी और 2017 में यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा को दूसरे ही अटैम्प्ट में 570वीं रैंक के साथ क्रैक किया. दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत के साथ, हर कठिनाई को हराया जा सकता है और सफीन की कहानी इसका जीता-जागता उदाहरण है.

माता-पिता ने खोई नौकरी
सफीन मध्यम-वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते थे और उनके माता-पिता सूरत के एक डायमंड यूनिट में काम करके परिवार का पालन-पोषण करते थे. हालात तब ज्यादा खराब हो गए जब सफीन के माता-पिता ने नौकरी खो दी. पैसों की कमी के चलते ऐसे दिन भी आए जब परिवार को भूखे पेट सोया.

मां ने घर-घर जाकर बनाई रोटियां, पिता ने बेची चाय

नौकरी खोने के बाद घर चलाने के लिए साफीन की मां ने कई घरों में रोटियां बनाने का काम किया. पिता ने इलेक्ट्रीशियन का काम किया. सर्दियों के दिनों में सफीन के माता-पिता चाय और अंडे भी बेचा करते थे.

हालातों से लड़कर सपने किए साकार
सफीन ने हर छोटी-छोटी जरूरत को पूरा करने के लिए बहुत सी कठिनाइयों का सामना किया लेकिन इतने पर भी वे हालातों से जीतकर सीमित संसाधनों के साथ ही अपने सपने को साकार करने की कोशिश में जुट गए. स्कूल की पढ़ाई खतम होने के बाद सफीन ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग (National Institute of Engineering) में दाखिला लिया.
Loading...

गांव में आए एक डीएम से हुए थे प्रभावित
सफीन के मन में यूपीएससी क्लीयर करने की इच्छा तब आई जब उनके गांव में एक डीएम विजिट पर आए थे, डीएम के औहदे और काम से प्रभावित होकर सफीन ने तय कर लिया कि उन्हें भी ऐसा ही बनाना है. इसके बाद सफीन ने यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी.

दुर्घटना के बाद भी हौसला रहा बरकरार
यूपीएससी की तैयारी के लिए सफीन दिल्ली आए. दिल्ली में 2 साल तक रहने और पढ़ने के लिए पैसों की कमी होने की वजह से उन्हें गुजरात के एक पोलारा परिवार से मदद लेनी पड़ी. पहले अटेम्पट के बाद एक दुर्घटना में उनका एक हाथ बुरी तरह घायल हो गया और वे कुछ दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती रहे. फिर दूसरे अटेम्प्ट में सफीन ने यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा क्लियर कर 570वीं रैंक हासिल की.

ये भी पढ़ें:
UPSSSC Homeopathic Pharmacy exam 2019: 13 नवंबर को होने वाला एग्जाम कैंसिल
IBPS PO Mains 2019: एडमिट कार्ड जारी, ibps.in पर करें चेक
Sarkari Naukri: रेलवे में 10वीं पास के लिए जॉब, ऐसे करें आवेदन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 5:41 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...