Modi Government Plan: ग्रेजुएट होंगी, तो शादी के ल‍िये सरकार देगी 50,000 रुपये

Modi Government Plan: ग्रेजुएट होंगी, तो शादी के ल‍िये सरकार देगी 50,000 रुपये
नरेन्द्र मोदी सरकार अल्पसंख्यक छात्राओं को हर साल छात्रवृत्ति दे रही है. (File Photo)

नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) सरकार अल्पसंख्यक (Minority) लड़कियों को शिक्षित (Educate) करने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है. पढ़ाई करने के लिए तरह-तरह से मदद कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2019, 7:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र की नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) सरकार अल्पसंख्यक लड़कियों (Minority Girls) को शिक्षित (Educate) करने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है. पढ़ाई करने के लिए उन्हें तरह-तरह से मदद कर रही है. इतना ही नहीं इन बालिकाओं को शादी के लिए 50 हजार रुपये की मदद भी इस शर्त पर दी जा रही है कि पहले आपको ग्रेजुएट (Graduate) होना पड़ेगा. इसी तरह की एक योजना मोदी सरकार (Modi Government) ने बेगम हजरत महल छात्रवृत्ति के नाम से चलाई है. इस योजना के तहत कक्षा 9 से 12वीं तक की पढ़ाई के लिए हर साल छात्रवृत्ति (Scholarship) दी जाती है. योजना में आवेदन की आखिरी तारीख 30 सितंबर है. इसका संचालन मौलाना आजाद (Maulana Azad) एजुकेशन फाउंडेशन कर रहा है.

सरकार किस-किस को दे रही है पढ़ाई के लिए मदद

बेगम हज़रत महल छात्रवृत्ति योजना के तहत मुस्लिम, ईसाई, सिख, बौद्ध, जैन और पारसी समुदाय की छात्राओं को पढ़ाई के लिए मदद दी जा रही है. योजना के तहत कक्षा 9 से 10 के तहत पांच हजार और कक्षा 11 से 12वीं तक के लिए छह हजार रुपये की मदद मिलेगी. छात्रवृत्ति की रकम सीधे लाभार्थी छात्रा के बैंक खाते में पहुंचेगी.



अल्पसंख्यक मंत्रालय का विभाग मौलाना आज़ाद एजुकेशन फाउंडेशन यह स्कीम चला रहा है.

योजना का लाभ लेने की यह है शर्त

मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन के उपाध्यक्ष अशफाक सैफी ने बताया कि योजना का मकसद पूरी तरह से छात्राओं को पढ़ाई के लिए प्रेरित करना है. इस योजना का लाभ लेने के लिए यह जरूरी है कि छात्रा ने अपनी पिछली कक्षा में 50 प्रतिशत या उससे अधिक नंबर हासिल किए हों. साथ ही उसके माता-पिता की सालाना आय 2 लाख रुपये से अधिक न हो.

कक्षा 9 से 12वीं तक में पढ़ने वालीं छात्रओं को बेगम हज़रत महल छात्रवृत्ति योजना का लाभ दिया जाता है. (प्रतीकात्मक फोटो)


छात्रवृत्ति पाने के लिए करना होगा यह काम 

>>आवेदक द्वारा स्व-घोषित अल्पसंख्यक समुदाय का प्रमाण पत्र होना जरूरी है.
>>छात्राओं को 50 प्रतिशत नम्बरों के साथ पिछले वर्ष की मार्कशीट देनी होगी.

>>माता-पिता की अधिकतम 2 लाख सालाना इनकम का सर्टिफिकेट देना होगा.

>>आवेदक छात्रा को आधार कार्ड, बैंक खाता पासबुक की जानकारी देनी होगी.

>स्कूल/संस्थान के प्रधानाचार्य द्वारा सत्यापित एक सत्यापन प्रपत्र भी अपलोड करना होगा.

>>आवेदन मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन की बेवसाइट पर दिए गए लिंक पर ऑनलाइन भरना होगा.

>>आवेदन सिर्फ हिंदी या अंग्रेजी में ही भरा जाएगा.

ये भी पढ़ें- 

नया मोटर व्हीकल एक्ट आने के बाद डीएल बनवाने वालों की संख्या बढ़ी

वक्फ़ संपत्तियों पर मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, 17 हजार प्रोपार्टी पर है कब्जा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज