NCTE नॉन परफॉर्मिंग बीएड कॉलेज करेगा बंद, 1000 संस्थानों की हुई जांच

वर्तमान में देश भर के 1000 शिक्षण संस्थान जांच के दायरे में हैं. कई आवेदक बीएड का विकल्प इसलिए चुनते हैं क्योंकि डिग्री हासिल करने के बाद लड़कियों को बेहतर वैवाहिक संभावनाएं मिलती हैं.

News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 6:36 PM IST
NCTE नॉन परफॉर्मिंग बीएड कॉलेज करेगा बंद, 1000 संस्थानों की हुई जांच
वर्तमान में देश भर के 1000 शिक्षण संस्थान जांच के दायरे में हैं.
News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 6:36 PM IST
नेशनल काउंसलि फॉर टीचर एजुकेशन (NCTE) नॉन परफॉर्मिंग टीचर ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट्स को बंद कर देगा. NCTE इस फैसले को ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) के कहने पर अमल में लाएगा. NCTE के चेयरपर्सन सतबीर बेदी ने कहा, हम एक प्रदर्शन मूल्यांकन रिपोर्ट प्रणाली शुरू करने की योजना बना रहे हैं, जो शिक्षण और प्लेसमेंट की गुणवत्ता सहित कई पहलुओं पर संस्थानों का निरीक्षण करेगी. इस रिपोर्ट के आधार पर, जो पर्याप्त रूप से प्रदर्शन नहीं करते हैं उन्हें दंड का सामना करना पड़ेगा. रिपोर्ट सालाना जारी की जाएगी.

वर्तमान में देश भर के 1000 शिक्षण संस्थान जांच के दायरे में हैं. चेयरपर्सन के मुताबिक, हमने एक भी शिकायत के आधार पर कॉलेजों को सूचीबद्ध नहीं किया है, लेकिन शिक्षक प्रशिक्षण के लिए नियमों और मानकों का नियमित पालन न करने पर किया है.

कई संस्थान न्यूनतम रिक्वायरमेंट को भी पूरा नहीं कर पाते. जिस वजह से कई सीटें नॉन-क्वालीटी वाले प्लेसमेंट के अलावा भी खाली होती हैं. ऐसे संस्थान जो छात्रों द्वारा अस्वीकार कर दिए गए हैं, वे भी बंद किए जाएंगे.

NCTE का दावा है कि उसे बीएड पाठ्यक्रमों के लिए हर साल 5 लाख तक का एडमिशन मिलते हैं और फिर भी कई संस्थानों में सीटें खाली हैं. हर साल19 लाख से अधिक छात्रों को प्रशिक्षित करने की क्षमता है, जबकि केवल 3-3.5 लाख नौकरियां सालाना जनरेट होती हैं. फिर भी हमारे पास बीएड पाठ्यक्रमों के लिए हर साल नामांकन करने वाले लगभग 5 लाख छात्र होते हैं.

सतबीर बेदी ने कहा, बहुत से बीएड एप्लीकेशन और गैर-गुणवत्ता के पीछे एक कारण पाठ्यक्रम से जुड़ी मैटरिमोनियल वैल्यू है. कई आवेदक बीएड का विकल्प इसलिए चुनते हैं क्योंकि डिग्री हासिल करने के बाद लड़कियों को बेहतर वैवाहिक संभावनाएं मिलती हैं.

ये भी पढ़ें-
मिलिए इन 3 GATE टॉपर्स से, जिन्होंने हर मुश्किल को हराया
Loading...

SUCCESS STORY: IAS ने निजी खर्च से संवारा बच्‍चों का भविष्य
हाउस वाइफ और एक बच्चे की मां बनी IAS, पाई 80वीं रैंक
गरीबी में गुजरा बचपन, अब US की यूनिवर्सिटी में कर रहे रिसर्च

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 6:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...