NEP 2020: नई शिक्षा नीति के तहत इस बार 4 साल का डिग्री कोर्स लागू करेंगे ये संस्थान!

केंद्र सरकार ने 34 साल पुरानी व्यवस्था को बदलते हुए नई शिक्षा नीति का ऐलान किया है.
केंद्र सरकार ने 34 साल पुरानी व्यवस्था को बदलते हुए नई शिक्षा नीति का ऐलान किया है.

केंद्रीय कैबिनेट (Union Cabinet) ने हाल ही में जारी की गई नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy 2020) को मंजूरी दे दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 9:20 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हाल ही में जारी की गई नई शिक्षा नीति यानी न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020 (New Education Policy 2020) को केंद्रीय कैबिनेट ने अपनी मंजूरी दे दी है. नई शिक्षा नीति के तहत एम. फिल को खत्म करने और चार साल का डिग्री कोर्स शुरू करने को लेकर भी फैसला किया गया है. ऐसे में अब 20 इंस्टीट्यूट्स आफ एमिनेंस से इस मामले में शुरुआत करने को कहा गया है. सब सही रहा तो फिर इन इंस्टीट्यूट्स में सबसे पहले नई शिक्षा नीति में उल्लिखित 4 साल के डिग्री कोर्स की शुरुआत की जाएगी.

4 साल का डिग्री कोर्स इसी साल से!
इसके बाद अगर अन्य इंस्टीट्यूट्स आफ एमिनेंस भी चार साल के डिग्री कोर्स को शुरू करना चाहते हैं, तो 2020-21 सत्र से ऐसा कर सकते हैं. टाइम्सनाउ की रिपोर्ट के अनुसार, अगर मिली जानकारी पर भरोसा किया जाए तो फिर 4 साल का डिग्री प्रोग्राम इसी साल से शुरू होने जा रहा है. बता दें कि 34 साल पुरानी पढ़ाई की व्यवस्था को बदलते हुए नई शिक्षा नीति यानी एनईपी 2020 का ऐलान किया गया था.

दिसंबर तक बनेगा एकेडमिक क्रेडिट बैंक
इतना ही नहीं, अपनी तरह का पहला एकेडमिक क्रेडिट बैंक बनाने की भी योजना है, जिसे दिसंबर 2020 तक तैयार कर लिया जाएगा. बता दें कि अगस्त 2019 में 20 हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूट्स को इंस्टीट्यूट्स आफ एमिनेंस का दर्जा दिया गया था. इनमें आईआईटीज, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, दिल्ली यूनिवर्सिटी समेत दस निजी कॉलेज भी शामिल हैं. इनमें से कई शिक्षण संस्थान बेहद जल्द 4 साल का डिग्री कोर्स शुरू कर सकते हैं.



ये भी पढ़ें
पश्चिम बंगाल राज्य संयुक्त प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट 7 Aug को, काउंसलिंग ऑनलाइन
सरकारी स्कूल: किस्से और कहानियों के सहारे बच्चे बन रहे अच्छे भारतीय

इसके अलावा सरकार फरवरी 2010 तक कॉमन एंट्रेस टेस्ट यानी सीईटी और हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूट्स एंट्रेस एग्जाम के लिए नए ढांचे पर काम कर रही है. इसके तहत मई 2021 में पहला टेस्ट आयोजित करने की उम्मीद की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज