Exclusive: इंजीनियरिंग, लॉ और पीएचडी की फर्जी डिग्री बेचने वाले रैकेट का News18 ने क‍िया भंडाफोड़, जानें कैसे काम करता हैं इनके एजेंट

केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ने ट्व‍िटर पर ट्वीट करते हुए लिखा है कि 'एक न्यूज चैनल में प्रसारित, कुछ संस्थाओं द्वारा डिग्रियां बेचे जाने का समाचार मेरे संज्ञान में आया है, जो कोई भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 10:11 AM IST
Exclusive: इंजीनियरिंग, लॉ और पीएचडी की फर्जी डिग्री बेचने वाले रैकेट का News18 ने क‍िया भंडाफोड़, जानें कैसे काम करता हैं इनके एजेंट
इंजीनियरिंग की डिग्री बांटते थे ये संस्‍थान, न्‍यूज 18 की रिपोर्ट में हुआ खुलासा
News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 10:11 AM IST
CNN News18 ने दिल्ली से संचालित होने वाले फर्जी डिग्री रैकेट का भंडाफोड़ किया है, जो पैसे के लिए इंजीनियरिंग की डिग्री बेचता है. इस पर संज्ञान लेते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा कि इस रैकेट में शामिल संस्थानों पर कार्रवाई की जाएगी. रमेश पोखरियाल ने ट्व‍िटर पर लिखा है, 'एक न्यूज चैनल में प्रसारित, कुछ संस्थाओं द्वारा डिग्रियां बेचे जाने का समाचार मेरे संज्ञान में आया है. मैंने संबंधित संस्थाओं को सख्ती से जांच करने के निर्देश दिए हैं. जो कोई भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.'




CNN News18 द्वारा इस बड़े खुलासे के बाद इस पर एचआरडी सेक्रेटरी आर. सुब्रह्मणियन ने भी संज्ञान लिया है और CNN News18 की इस एक्‍सक्‍लूसिव रिपोर्ट को पूरा देखा है. रिपोर्ट देखने के बाद उन्‍होंने खुद यह संदेश भेजा कि मैंने रिपोर्ट देखी है और अब इस मामले में यूजीसी (University Grants Commission) को एक उच्‍च स्‍तरीय जांच का निर्देश दिया है.

दरअसल, रिपोर्ट में यह खुलासा किया गया है कि किस तरह से बड़ी यूनिवर्सिटीज के बाहर बैठे एजेंट, डिग्रियां बेच रहे हैं. हालांकि अब तक यह पता नहीं चल सका है कि इनके खिलाफ एफआई दर्ज की गई है या नहीं. अगर ऐसा होता है तो इनके खिलाफ केस दर्ज हो सकता है.
Loading...

मार्कशीट, प्रोविजनल, माइग्रेशन भी फेक
डिग्री बेचने वाले एजेंट, 3 साल की मार्कशीट के साथ इंजीनियरिंग डिग्री, प्रोविजनल और फाइनल डिग्री और माइग्रेशन सर्ट‍िफिकेट के लिए प्रति वर्ष 25,000 से 75,000 रुपये के हिसाब से पैसे लेते हैं. उनका यह भी दावा है कि अगर कोई विदेश जाना चाहता है तो डिग्री को उसके हिसाब से वेरिफाई कराकर देंगे. शुरुआत में कुल कीमत का 50% पैसा एजेंट ले लेते हैं और बाकी की रकम काम पूरा होने के बाद ली जाती है. CNN News18 की एक्‍सक्‍लूसिव रिपोर्ट में एजेंट ने कहा है कि फाइनल ईयर की मार्कशीट उन्‍हें पहले देगा. अगर आपको ठीक लगता है तो पैसे दो और बाकी के पेपर भी ले जाओ.

Phd की भी मिलती है फेक डिग्री
डिग्रियों की खरीद बिक्री सिर्फ इंजीनियरिंग डिग्री तक ही नहीं है. बल्‍क‍ि यह PhD तक पहुंच चुकी है. CNN News18 की रिपोर्ट में एजेंट ने दावा किया है कि अगर आपने एमए पूरा कर लिया है तो आंध्र यूनिवर्सिटी (Andhra University) से 2019 की PhD डिग्री दिला सकता है. यही नहीं वह थीसिस और सिनॉपसिस दिलाने का भी दावा करता है. इस बाजार में लॉ की डिग्री मिलना भी मुश्‍क‍िल नहीं है. लेकिन यह उत्‍तर प्रदेश में मौजूद ए‍क यूनिवर्सिटी में मिलेगी. लेकिन इसके लिए आपको बार काउंसिल की परीक्षा पास करनी होगी. इसकी कीमत 2.1 लाख रुपये है.

ये भी पढ़ें:


Good News: मोदी सरकार ने दी 75 नये मेडिकल कॉलेजों को मंजूरी
Syndicate Bank Recruitment: सीनियर मैनेजर के पदों पर वैकेंसी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 5:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...