दिल्ली यूनिवर्सिटी से कैसे मिलेगी डिग्री! 3 साल से नहीं मिला प्रिंटिंग कांट्रेक्टर

दिल्ली यूनिवर्सिटी से कैसे मिलेगी डिग्री! 3 साल से नहीं मिला प्रिंटिंग कांट्रेक्टर
दिल्ली हाईकोर्ट डिजिटल डिग्री से जुड़े एक मामले की सुनवाई कर रही थी.

दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) ने 11 मार्च, 8 जून और 18 जुलाई को जारी किया टेंडर, कम ही प्रिंटिंग कांट्रेक्टर (Printing Contractor) ने दिखाई दिलचस्पी

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2020, 12:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के बीच ओपन बुक एग्जाम कराने वाली दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi Univwrsity) की चुनौतियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि दिल्ली यूनिवर्सिटी के पास स्टूडेंट्स को डिग्री देने के लिए प्रिंटिंग कांट्रेक्टर (Printing Contractor) ही नहीं है. ये बात तब सामने आई जब इस साल जुलाई में ग्रेजुएशन कर चुके कुछ छात्रों ने दिल्ली हाईकोर्ट के दरवाजे पर दस्तक दी. इसके बाद हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने यूनिवर्सिटी से डिजिटल डिग्री सर्टिफिकेट (Digital Degree Certificate) छात्रों को देने के लिए कहा. इसके दो महीने बाद ही डिग्री के लिए आवेदन मंगाए जाने को लेकर पोर्टल शुरू किया जा सका.

2017 के बाद से नहीं मिला प्रिंटिंग कांट्रेक्टर
दरअसल, टाइम्स आफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2017 में हुए आडिट के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रिंटिंग कांट्रेक्टर के कांट्रेक्ट को रद्द कर दिया गया था. आडिट में पाया गया कि एक ही प्रिंटिंग कांट्रेक्टर को लंबे समय से प्रिंटिंग कांट्रेक्ट मिला हुआ है. इसी वजह से ये फैसला किया गया.

ये भी पढ़ें
JEE Main 2020: जल्द जारी हो सकती है जेईई मेन परीक्षा की आंसर की, यहां करें चेक


पत्नी को MP में एग्जाम दिलाने स्कूटर से किया 1200 Km का सफर, हवाई जहाज से लौटेंगे झारखंड

इस साल 3 बार मंगाए टेंडर
हालांकि आफिशिएटिंग डीन एग्जामिनेशन प्रोफेसर डी. एस. रावत का कहना है कि पिछला प्रिंटिंग कांट्रेक्ट इसलिए रद्द कर दिया गया था क्योंकि प्रिंटिंग के काम में कुछ गलतियां पाई गईं थीं. इसके बाद यूनिवर्सिटी किसी भी टेंडर डॉक्युमेंट को फाइनल नहीं कर सकी. इस साल दिल्ली यूनिवर्सिटी ने 11 मार्च, 8 जून और 18 जुलाई को निविदाएं आमंत्रित की, लेकिन बहुत कम आवेदकों ने दिलचस्पी दिखाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज