होम /न्यूज /करियर /ऑफिस में कोई काम नहीं, सैलरी पैकेज 1 करोड़... रेलवे कर्मचारी ने फिर क्यों किया बॉस पर केस ?

ऑफिस में कोई काम नहीं, सैलरी पैकेज 1 करोड़... रेलवे कर्मचारी ने फिर क्यों किया बॉस पर केस ?


आयरिश रेलवे के कर्मचारी का कहना है कि काम छीनकर उसे दंडित किया जा रहा है.

आयरिश रेलवे के कर्मचारी का कहना है कि काम छीनकर उसे दंडित किया जा रहा है.

एक रेलवे कर्मचारी ने अपने बॉस के खिलाफ इसलिए केस किया है क्योंकि उसे काम नहीं दिया जा रहा है. यह मामला आयरलैंड के डबलिन ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. ऑफिस में कोई काम भी न हो, सालाना सैलरी पैकेज एक करोड़ रुपये हों. इतने के बाद भी कौन कर्मचारी बॉस के ऊपर केस करेगा! लेकिन एक व्यक्ति ने काम न होने को लेकर बॉस पर मुकदमा कर दिया है. यह मामला आयरिश रेलवे से जुड़ा है. आयरिश रेलवे के एक कर्मचारी ने अपने बॉस के ऊपर केस किया है. कर्मचारी ने आरोप लगाया है कि ऑफिस में उसे बहुत कम काम दिया जाता है. ऐसा उसे दंडित करने के इरादे से किया जा रहा है. कर्मचारी का कहना है कि उसने रेलवे के अकाउंट्स से जुड़े कुछ मामलों पर सवाल उठाए थे.

यह मामला तक सुर्खियों में आया जब बीते दिनों डर्मोट एलिस्टेयर मिल्स ने कोर्ट में अपना बयान दर्ज कराया. एलिस्टेयर आयरिश रेल विभाग में फाइनेंस मैनेजर हैं. उन्होंने कोर्ट में बयान दिया कि 2014 में रेलवे ऑपरेटर से जुड़े कुछ अकाउंट्स को लेकर सवाल उठाया था. जिसके बाद सजा के तौर पर उनके काम में कटौती कर दी गई है.

अखबार पढ़कर, घूमकर और सैंडविच खाकर काटते हैं समय

एलिस्टेयर मिल्स ने कहा कि काम में कटौती कर दिए जाने के बाद से वे अपना वक्त न्यूज पेपर पढ़कर, लंबी वॉक और सैंडविच खाकर काटते हैं. द मिरर के अनुसार, उन्होंने बताया कि काम न होने से इस नौकरी से बोरियत महसूस करने लगे हैं. उनका सालाना पैकेज 1 करोड़ रुपये है. यानी हर महीने 8 लाख रुपये से ज्यादा मिलते हैं.

वर्कप्लेस रिलेशन्स कमीशन के सामने एलिस्टेयर ने आरोप लगाया कि उन्हें आयरिश रेल के खिलाफ बोलने की वजह से दंडित किया जा रहा है. उन्हें काम छीनकर सजा दी जा रही है. नौकरी के समय काम न होने से वह ऊब जाते हैं.

ऑफिस में अलग-थलग पड़ गए हैं एलिस्टेयर

एलिस्टेयर का कहना है कि मैं अपने जॉब साइट पर आइसोलेट हो गया हूं. मुझे सप्ताह में दो दिन घर पर रहने को कहा जाता है. जब ऑफिस जाता हूं तो काम से संबंधित कोई ईमेल नहीं आता. कोई मैसेज नहीं करता. सभी कलीग दूर-दूर रहते हैं. मीटिंग में नहीं बुलाया जाता. ऐसा लगता है कि मुझे कुछ नहीं करने के लिए लाखों का वेतन दिया जा रहा है. फिलहाल एलिस्टेयर के इस मुकदमे पर सुनवाई स्थगित कर दी गई है. अगली सुनवाई फरवरी में होने क संभावना है. उनके बॉस की ओर से कोर्ट में एक नया गवाह पेश करने की बात कही गई है.

ये भी पढ़ें…

10वीं पास भारतीय रेलवे में इन पदों पर बिना परीक्षा पा सकते हैं नौकरी, जल्द करें अप्लाई
BPSC ने शिक्षा विभाग के लिए इन पदों पर निकाली वैकैंसी, कल से आवेदन शुरू

Tags: Job and career, Railway News, Viral news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें