DU Open-book exams: परीक्षा हाल में छात्र ले जा सकेंगे मोबाइल फोन, खुद लानी होगी आंसरशीट

DU Open-book exams: परीक्षा हाल में छात्र ले जा सकेंगे मोबाइल फोन, खुद लानी होगी आंसरशीट
14 सितंबर से दूसरे चरण की ओपन बुक परीक्षा होगी.

डीयू ने यह भी बताया कि परीक्षा के दौरान किन नॉर्म्स का पालन करेंगे. डीयू ने बताया कि दोनों मोड में छात्रों को अपना A4 साइज का पेपर यूज़ करना पड़ेगा. परीक्षा के दौरान कॉलेज या डिपार्टमेंट में किसी तरह का फिजिकल असिस्टेंस नहीं दिया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2020, 3:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) ने कहा है कि 14 सितंबर से होने वाले ओपन बुक एग्जाम (Open Book Exam) में छात्रों को उत्तर लिखने के लिए खुद की कॉपी लानी होगा. इसके अलावा अंडरग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों को सेलफोन, लैपटॉप और टैबलेट जैसे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स लाने की भी इजाज़त होगी.

दूसरे चरण की दे सकेंगे परीक्षा
यूनिवर्सिटी ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में फाइल किए गए एफिडेविट में कहा कि जो छात्र 10 अगस्त से 31 अगस्त तक होने वाली प्रथम चरण की परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए हैं वे दूसरे चरण की परीक्षा में शामिल हो पाएंगे. यह भी कहा गया कि परीक्षा दिल्ली में परीक्षा केंद्र या ऑनलाइन दी जा सकती है.

ऑनलाइन-ऑफलाइन दोनों मोड में होगी परीक्षा
डीयू ने यह भी बताया कि परीक्षा के दौरान किन नॉर्म्स का पालन करेंगे. डीयू ने बताया कि दोनों मोड में छात्रों को अपना A4 साइज का पेपर यूज़ करना पड़ेगा. परीक्षा के दौरान कॉलेज या डिपार्टमेंट में किसी तरह का फिजिकल असिस्टेंस नहीं दिया जाएगा. जो भी स्टेशनरी यूज़ की जानी होगी उसकी पूरी व्यवस्था छात्रों को खुद करना होगा. खास बात है कि स्टेशनरी, फेस मास्क और सैनिटाइज़र के साथ छात्रों को इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स भी ले जाने की परमीशन होगी.



ये भी पढ़ेंः
PM को 150 शिक्षाविदों ने लिखी चिट्ठी, वक्त पर NEET-JEE परीक्षा कराने का आग्रह
NEET JEE Exam 2020: 25 लाख कैंडीडेट्स पर लागू होगा ऑड ईवन फॉर्मूला, जानिए कैसे


वॉट्सऐप या ईमेल पर दिया जाएगा पेपर
एफिडेविट में कहा गया है कि परीक्षा के दौरान क्वेस्चन पेपर वॉट्सऐप या ईमेल पर भेजा जाएगा. हालांकि, अगर कोई छात्र कॉलेज या डिपार्टमेंट में क्वेस्चन पेपर के लिए अर्जी दे सकता है. डीयू के डीन बलराम पाणि ने कहा कि छात्रों को इसलिए आंसरशीट लाने के लिए कहा गया है ताकि किसी भी संक्रमण की संभावना से बचा जा सके. क्योंकि भारी मात्रा में कॉपियों को सैनिटाइज़ करना आसान नहीं होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज