त्रिपुरा में सवा लाख स्कूल स्टूडेंट्स ने ली खुली जगह पर हुई क्लास, पढ़ें डिटेल

त्रिपुरा में सवा लाख स्कूल स्टूडेंट्स ने ली खुली जगह पर हुई क्लास, पढ़ें डिटेल
उन छात्रों के लिये ये कक्षाएं शुरू की हैं, जिनके पास टीवी या मोबाइल फोन नहीं हैं.

29 प्रतिशत (94,013) छात्रों के पास मोबाइल फोन नहीं हैं और करीब 44 प्रतिशत (1.42 लाख) छात्रों के घर में टीवी नहीं हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2020, 2:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. त्रिपुरा के शिक्षा मंत्री ने कहा कि राज्य में सवा लाख स्कूली छात्र सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए खुले स्थान पर कक्षाओं में शामिल हुए.

जिनके पास टीवी नहीं, उनके लिए ये क्लास
शिक्षा मंत्री रतनलाल नाथ ने कहा कि राज्य सरकार ने उन छात्रों के लिये ये कक्षाएं शुरू की हैं, जिनके पास टीवी या मोबाइल फोन नहीं हैं. उन्होंने कहा कि कुल सवा लाख छात्र बृहस्पतिवार को प्रथम दिन की कक्षाओं में शामिल हुए.

एक शिक्षक अधिकतम पांच छात्रों को पढ़ाता है
इस व्यवस्था के तहत एक शिक्षक अधिकतम पांच छात्रों को पढ़ाते हैं, जिस दौरान सामाजिक दूरी के नियमों का सख्ती से पालन किया जाता है. हर छात्र को मास्क पहनना और कक्षा के पहले एवं बाद में हाथ स्वच्छ करना आवश्यक है. मंत्री ने कहा कि तीसरी कक्षा से 12 वीं कक्षा तक के छात्र स्कूल के मैदान में शैक्षणिक परिसर के पास खुले स्थान में इन कक्षाओं में शामिल हुए.



छात्रों की शिक्षा प्रभावित
उन्होंने कहा, कोविड-19 महामारी के चलते स्कूल और विभिन्न शैक्षणिक संस्थान पिछले पांच महीने से बंद हैं, जिससे छात्रों की शिक्षा प्रभावित हुई है. हमने सभी राजनीतिक दलों एवं संगठनों के प्रतिनिधियों की सदस्यता वाली समितियां बनाई और इन समितियों की सिफारिशें के आधार पर छात्रों के शिक्षण के लिये कदम उठाये गये.’’

ये भी पढ़ें-
UPSC Recruitment 2020: कई पदों के लिए 35 वैकेंसी, एप्लीकेशन प्रोसेस शुरू
यूपी बोर्ड के 10वीं,12वीं के छात्र दूरदर्शन के जरिए करेंगे ऑनलाइन पढ़ाई

29% के  पास मोबाइल, 44% के पास टीवी नहीं
नाथ ने कहा, हमने शिक्षकों से किसी छात्र पर इन कक्षाओं में शामिल होने के लिये दबाव नहीं डालने को भी कहा है. उन्होंने कहा कि राज्य के शिक्षा विभाग द्वारा किये गये एक सर्वेक्षण के मुताबिक सभी आठ जिलों में 3.22 लाख छात्रों में 29 प्रतिशत (94,013) छात्रों के पास मोबाइल फोन नहीं हैं और करीब 44 प्रतिशत (1.42 लाख) छात्रों के घर में टीवी नहीं हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज