60 हजार स्‍कूलों में अंग्रेजी पर रोक, सरकार ने ल‍िया यह बड़ा फैसला

नए न‍ियमों के तहत पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के प्राइमरी स्‍कूलों में छात्रों को निर्देश देने के लिए अब अंग्रेजी नहीं उर्दू भाषा का इस्‍तेमाल होगा.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 5:40 PM IST
60 हजार स्‍कूलों में अंग्रेजी पर रोक, सरकार ने ल‍िया यह बड़ा फैसला
नए न‍ियमों के तहत पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के प्राइमरी स्‍कूलों में छात्रों को निर्देश देने के लिए अब अंग्रेजी नहीं उर्दू भाषा का इस्‍तेमाल होगा.
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 5:40 PM IST
पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने प्राथमिक विद्यालयों के ल‍िए एक जरूरी न‍िर्देश जारी क‍िया है. इसके तहत 60,000 प्राथम‍िक व‍िद्यालयों में न‍िर्देश देने के ल‍िए अंग्रेजी भाषा का इस्‍तेमाल नहीं होगा. दरअसल, वहां की सरकार ने यह फैसला समय की बर्बादी को रोकने के ल‍िए उठाया है. प्राथम‍िक स्‍कूल के श‍िक्षकों का दावा है क‍ि छात्र अंग्रेजी में द‍िए गए न‍िर्देश नहीं समझ पाते हैं, ऐसे में उन्‍हें दोबारा उर्दू में अनुवाद कर अपनी बात समझानी पड़ती है. मीड‍िया र‍िपोर्ट्स के अनुसार साल 2020 से पंजाब प्रांत में मौजूद सभी स्‍कूलों में यह न‍ियम लागू कर द‍िया जाएगा.

फैसले की हो रही आलोचना
सोशल मीड‍िया पर पाकिस्‍तान के पंजाब प्रांत की सरकार के इस फैसले की जमकर आलोचना हो रही है. कई शैक्षणिक विशेषज्ञ यह कहने की सीमा तक चले गए हैं कि इस निर्णय से देश के "पाषाण युग में वापस" आने की आशंका है. शिक्षाविदों ने सत्ता में आने के बाद सभी स्कूलों- कॉलेजों और मदरसों में समान पाठ्यक्रम शुरू करने का अपना वादा पूरा नहीं करने के लिए पाकिस्तान के पीएम इमरान खान की भी आलोचना की.

अंग्रेजी से अनुवाद में लगता है समय

इस पर पंजाब सरकार का जवाब आया है कि‍ क्‍योंकि अंग्रेजी को अनुवाद करने में श‍िक्षकों और छात्रों का बहुत समय ज़ाया होता है, इसल‍िए यह कदम उठाया गया. बता दें क‍ि वर्तमान में उस्‍मान बुजदार, पाकिस्‍तान के पंजाब प्रांत के मुख्‍यमंत्री हैं, ज‍िन्‍होंने प्राथम‍िक व‍िद्यालयों के ल‍िए यह फैसला ल‍िया है.

न‍िर्देशों के ल‍िए उर्दू सही माध्‍यम
नए न‍ियम लागू करने से पहले प्रांत के श‍िक्षा व‍िभाग ने 22 ज‍िलों में एक सर्वेक्षण क‍िया, ज‍िसमें छात्रों के साथ ही उनके माता-प‍िता को भी शाम‍िल क‍िया गया. सर्वे र‍िपोर्ट की मानें तो सर्वेक्षण में शामिल 85 फीसदी अभ‍िभावक और छात्र, न‍िर्देशों के ल‍िए उर्दू को सही माध्‍यम मानते हैं.
Loading...

अलग भाषा के रूप में होगी अंग्रेजी की पढ़ाई
पंजाब प्रांत की सरकार ने स्‍पष्‍ट क‍िया क‍ि अंग्रेजी भाषा की जगह उर्दू ने ली है, इसलिए अंग्रेजी की पढ़ाई, एक अलग भाषा के रूप में होगी. सरकार के इन नए न‍ियमों का असर 60,000 प्राइमरी स्‍कूलों पर होगा. कुछ साल पहले पंजाब के प्राइमरी स्‍कूलों में अंग्रेजी को 'मीडियम ऑफ इंस्‍ट्रक्‍शन' के रूप में प्रस्‍तुत क‍िया गया था.

यह भी पढ़ें- OMG! पबजी की लत छुड़ाने को लड़कियों ने किया ऐसा काम

अपने बच्‍चों को सरकारी स्‍कूल में पढ़ाते हैं ये 3 बड़े अफसर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 4:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...