AIAPGET 2020: आयुष पीजी एंट्रेंस टेस्ट को स्थगित करने के लिए SC में डॉक्टरों ने दायर की याचिका

AIAPGET 2020: आयुष पीजी एंट्रेंस टेस्ट को स्थगित करने के लिए SC में डॉक्टरों ने दायर की याचिका
Search Results Web results आयुष पीजी एंट्रेंस टेस्ट को स्थगित करने की मांग.

याचिका में यह तर्क भी दिया गया है कि सभी फ्रंटलाइन डॉक्टर इस बार परीक्षा में बैठने के अवसर से वंचित होंगे. क्योंकि वे सभी महामारी के दौरान चिकित्सा सहायता प्रदान करने में व्यस्त हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 17, 2020, 1:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में 17 BHMS और BAMS डॉक्टरों द्वारा याचिका दायर कर ऑल इंडिया आयुष पोस्ट ग्रेजुएट एंट्रेंस टेस्ट (AIAPGET 2020) के लिए 29 अगस्त 2020 को जारी अधिसूचना को टालने की मांग की गई.

AIAPGET- 2020
दलील में लिखा है, "पहले से ही COVID-19 से संक्रमित होने या वर्तमान में क्वारंटाइन में होने के कारण, कई डॉक्टर्स (याचिकाकर्ताओं सहित) 29.08.2020 को AIAPGET- 2020 में उपस्थित नहीं हो पाएंगे. जो कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 14 के अनुसार निहित समानता के उनके मौलिक अधिकार का उल्लंघन होगा.

प्रवेश परीक्षा को रद्द करने की वजह
याचिका वकील अलख आलोक श्रीवास्तव द्वारा दायर और तैयार की गई है. प्रवेश परीक्षा को रद्द करने का एक कारण कोरोनोवायरस मामलों की बढ़ती संख्या बताई गई है.



उम्मीदवारों के पास तैयारी का समय नहीं
याचिका में बताया गया अन्य कारण है, परीक्षा में दो महीने से कम समय रहने पर अधिसूचना जारी की गई. यह समय उम्मीदवारों की तैयारी के लिए पर्याप्त नहीं. इसके अलावा, परीक्षा केंद्रों की संख्या कम है और अधिसूचना अन्य क्षेत्रों में बाढ़ से तबाह राज्यों के उम्मीदवारों की दुर्दशा को ध्यान में नहीं रखती है.

ये भी पढ़ें-
ओडिशा में मीलों पैदल चलकर, पेड़-पहाड़ियां चढ़कर ऑनलाइन क्लास ले पाते हैं छात्र
UP सरकार के प्राइमरी स्कूलों में फिर मिलेंगी सर्दियों की छुट्टियां,पढ़ें डिटेल

डॉक्टर परीक्षा में बैठने से वंचित
याचिका में यह तर्क भी दिया गया है कि सभी फ्रंटलाइन डॉक्टर इस बार परीक्षा में बैठने के अवसर से वंचित होंगे. क्योंकि वे सभी महामारी के दौरान चिकित्सा सहायता प्रदान करने में व्यस्त हैं, जिससे उन्हें अध्ययन और तैयारी के लिए समय नहीं मिल पाया. इसके अलावा, कई एस्पिरेंट्स वायरस से संक्रमित होने की वजह से क्वारंटाइन में हैं. याचिका में कहा गया है कि अगर परीक्षा स्थगित कर दी जाती हैं तो यह छात्रों के हित में होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज