बड़ी खबर: ट्यूशन फीस ले सकेंगे निजी स्कूल, कोर्ट ने सरकार का फैसला बदला

बड़ी खबर: ट्यूशन फीस ले सकेंगे निजी स्कूल, कोर्ट ने सरकार का फैसला बदला
स्कूल फीस को लेकर कई राज्यों में पेरेंट्स ने कोर्ट में याचिका दायर की है.

कोरोना वायरस की वजह से स्कूल और कॉलेज समेत देशभर के शिक्षण संस्थान पिछले पांच महीने से बंद हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 6, 2020, 11:08 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस से उपजे हालात के बीच देशभर के स्कूल और कॉलेज (Schools and Colleges) 5 महीने से बंद पड़े हैं. ऐसे में पेरेंट्स पर बच्चों की फीस का बोझ भी पड़ रहा है, जिसे लेकर विभिन्न राज्यों में पेरेंट्स द्वारा विरोध प्रदर्शन भी किया गया तो कई जगह ये मामला कोर्ट में भी पहुंचा. ऐसे ही एक मामले में अब गुजरात हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के उस फैसले को बदल दिया है, जिसमें दोबारा खोले जाने तक स्कूलों पर ट्यूशन फीस लेने पर रोक लगाई गई थी. अब हाईकोर्ट ने अपने फैसले में साफ कर दिया है कि निजी स्कूल ट्यूशन फीस ले सकेंगे.

कोर्ट ने खारिज किया सरकार का 16 जुलाई का आदेश
दरअसल, गुजरात सरकार ने 16 जुलाई को आदेश जारी किया था कि निजी स्कूल हालात सामान्य होने तक पेरेंट्स से ट्यूशन फीस नहीं वसूल सकेंगे. मगर अब गुजरात हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस विक्रम नाथ और जस्टिस जेबी पारदिलवाला की डिवीजन बेंच ने अपने फैसले में कहा, 'बच्चों को शिक्षा मुहैया कराने और स्कूलों को चलाए रखने के लिए एक संतुलन की जरूरत है.'

पेरेंट्स और स्कूलों के हितों में संतुलन बनाए सरकार
गुजरात हाईकोर्ट के अनुसार, स्कूलों को ट्यूशन फीस वसूलने से रोकने से कई छोटे स्कूल हमेशा के लिए बंद हो सकते हैं. वहीं स्कूलों को भी ये समझना होगा कि पेरेंट्स मौजूदा समय में आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं. यही वजह रही कि कोर्ट ने राज्य सरकार से कहा है कि प्राइवेट अनएडेड स्कूलों और पेरेंट्स के हितों की रक्षा के लिए संतुलन स्थापित करे.



ये भी पढ़ें :-
झुग्गियों में बिताए एक दिन ने बदल दी जिंदगी, UPSC परीक्षा पास कर सिमी बनीं IAS
UPSC Results 2019: राहुल मोदी ने क्रैक किया सिविल सर्विस एग्जाम, रैंक मिली 420

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि कोरोना वायरस की वजह से उपजे हालात को देखते हुए सभी स्टेकहोल्डर्स को जिम्मेदारी बराबरी से बांटने की जरूरत है. इस लड़ाई को एकजुट होकर ही लड़े जाने की जरूरत है. अगर छोटे स्कूल बंद हो जाते हैं तो इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के पेरेंट्स को बड़े स्कूलों का रुख करना होगा जहां फीस भी ज्यादा होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज