लाइव टीवी

संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन: जामिया में पांच जनवरी तक छुट्टी, परीक्षा रद्द

News18Hindi
Updated: December 14, 2019, 4:49 PM IST
संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन: जामिया में पांच जनवरी तक छुट्टी, परीक्षा रद्द
जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने पांच जनवरी तक छुट्टी की घोषणा कर दी.

सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. आने वाले समय में नयी तारीखों की घोषणा की जाएंगी. 16 दिसम्बर से पांच जनवरी तक छुट्टी घोषित की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 14, 2019, 4:49 PM IST
  • Share this:
नागरिकता (संशोधन) कानून, 2019 के खिलाफ छात्रों के प्रदर्शन और विश्वविद्यालय परिसर में तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए शनिवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने पांच जनवरी तक छुट्टी की घोषणा कर दी और सभी परीक्षाओं को रद्द कर दिया.

विश्वविद्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. आने वाले समय में नयी तारीखों की घोषणा की जाएंगी. 16 दिसम्बर से पांच जनवरी तक छुट्टी घोषित की गई है. विश्वविद्यालय छह जनवरी 2020 से खुलेगा.’’

कानून के विरोध में छात्रों ने शुक्रवार को संसद की तरफ मार्च करने का प्रयास किया जिसके बाद पुलिस और छात्रों में संघर्ष हो गया. इससे विश्वविद्यालय एक तरह से युद्ध क्षेत्र में तब्दील हो गया.

इससे पहले दिन में विश्वविद्यालय प्रशासन ने शनिवार को निर्धारित परीक्षा रद्द करने की घोषणा की थी. छात्रों ने शनिवार को विश्वविद्यालय में बंद का आह्वान किया था. उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में परीक्षाओं का बहिष्कार करने की योजना बनाई थी.

25 वर्षीय छात्र निहाल अशरफ ने कहा, ‘‘परीक्षा सिर पर थी लेकिन इसे रद्द कर दिया गया. अगर देश में कुछ गलत होता है तो जामिया अपनी आवाज उठाएगा. हमने कक्षा और परीक्षाओं का बहिष्कार किया है. हमलोग अपने अधिकारों के लिए बार-बार मार्च निकालते रहेंगे.’’

बीए राजनीति विज्ञान के छात्र वजाहत (22) ने कहा, ‘‘शुक्रवार को जब हम मार्च निकाल रहे थे तब दिल्ली पुलिस ने हम पर बर्बर हमला किया. हमले के दौरान कई छात्र घायल हो गए. उन्होंने छात्रों पर लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े. हमने परीक्षा का बहिष्कार किया है.’’

एक अन्य छात्र पप्पू यादव ने कहा, ‘‘हर व्यक्ति जीना चाहता है. यह इजराइल या सीरिया नहीं है. हमें बांग्लादेश से सीखना चाहिए कि उन्होंने कैसे चरमपंथियों को मार डाला और आर्थिक लोकतंत्र का चयन किया. सरकार मुख्य मुद्दों पर फोकस नहीं कर रही है.’’ (इनपुट-भाषा)ये भी पढ़ें-
Success Story: पढ़ें उस लड़की के हौसले की कहानी, जो कोमा से निकलकर बनी IRS
CFSL में MTS पदों के लिए वैकेंसी, 10वीं पास 21 दिसंबर तक करें अप्लाई
जानिए क्यों, How to check NEET Result 2019 में गूगल पर सबसे ज्‍यादा किया सर्च

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 4:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर