पुड्डुचेरी विश्वविद्यालय आयोजित करेगा ओपन बुक कॉलेज और सेमेस्टर एग्जाम

पॉलिटी (थ्योरी और कल्चर). थ्योरी के लिए पॉलिटी पर एम लक्ष्मीकांत की किताब. NCERT की इंडियन कॉन्सटिट्यूशन एट वर्क. करंट के लिए Vision IAS monthly compilation. इकॉनॉमी थ्योरी एंड करंट के लिए Mrunal.org वीडियो लेक्चर्स (2015-2017). इकॉनॉमी सर्वे. Vision IAS compilations.
पॉलिटी (थ्योरी और कल्चर). थ्योरी के लिए पॉलिटी पर एम लक्ष्मीकांत की किताब. NCERT की इंडियन कॉन्सटिट्यूशन एट वर्क. करंट के लिए Vision IAS monthly compilation. इकॉनॉमी थ्योरी एंड करंट के लिए Mrunal.org वीडियो लेक्चर्स (2015-2017). इकॉनॉमी सर्वे. Vision IAS compilations.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोई भी राज्य फाइनल ईयर परीक्षा के बिना अंतिम वर्ष के छात्रों को प्रोमोट नहीं कर सकता है. यूजीसी की गाइडलान्‍स में इस बात का उल्‍लेख है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 7:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पुड्डुचेरी विश्वविद्यालय ने घोषणा की है कि कॉलेज में अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा ओपन बुक एग्जाम मोड में होगी. विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा है कि छात्रों को प्रश्नों का उत्तर देने के लिए पुस्तकों, नोट्स और अन्य अध्ययन सामग्री रेफर करने की अनुमति दी जाएगी.  हालांकि, छात्रों को संबंधित स्रोतों से कॉपी करने की उम्मीद नहीं है.

'ओपन बुक एग्जामिनेशन' मोड के तहत अंतिम सेमेस्टर परीक्षाएं आयोजित
एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि ऑनलाइन / ऑफलाइन / मिश्रित मोड में आने वाले छात्रों के लिए उचित और समान अवसर सुनिश्चित करने के लिए, अप्रैल 2020 में जारी 'परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर' के यूजीसी के दिशानिर्देशों के अनुसार 'ओपन बुक एग्जामिनेशन' मोड के तहत अंतिम सेमेस्टर परीक्षाएं आयोजित करने का निर्णय लिया गया है.

परीक्षा आयोजित करने से संबंध निर्देश छात्रों को भी
मुख्य अधीक्षकों से यह सुनिश्चित करने की अपेक्षा की जाती है कि COVID संक्रमण से बचने के लिए छात्रों के बीच संदर्भ सामग्री (reference materials) का आदान-प्रदान नहीं किया जाए. परीक्षा आयोजित करने से संबंधित आवश्यक निर्देश भी छात्रों को दिए गए हैं.



फाइनल ईयर परीक्षा के बिना अंतिम वर्ष के छात्रों को प्रोमोट नहीं कर सकते
बता दें कि यूजीसी गाइडलाइन्स को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोई भी राज्य फाइनल ईयर परीक्षा के बिना अंतिम वर्ष के छात्रों को प्रोमोट नहीं कर सकता है. यूजीसी की गाइडलान्‍स में इस बात का उल्‍लेख है.

ये भी पढ़ें-
बड़ी खबर: इस बार 2 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स नहीं दे पाए JEE Main एग्जाम
जम्मू-कश्मीर और असम में 21 Sep से खुलेंगे स्कूल, सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स और SOP

राज्‍यों को न‍िश्‍च‍ित तौर पर परीक्षा का आयोजन करना है
सुप्रीम कोर्ट ने कहा क‍ि यद‍ि क‍िसी राज्‍य को लगता है क‍ि वह परीक्षा का आयोजन संभव नहीं हो पा रहा है तो वह यूजीसी से संपर्क कर परीक्षा की तारीख को आगे बढ़ा सकता है. अंत‍िम वर्ष के छात्रों को प्रोमोट करने के ल‍िये राज्‍यों को न‍िश्‍च‍ित तौर पर परीक्षा का आयोजन करना चाह‍िये. अगर वो ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो राहत के ल‍िये यूजीसी से संपर्क करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज