CBSE, ICSE और PSEB प्राइवेट स्कूलों को मिले ये निर्देश, अब नहीं कर सकेंगे माता-पिता का शोषण

स्कूल

शिक्षा मंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि एक बार स्कूलों में शुरू की गई वर्दी को कम से कम तीन साल तक चलाया जाना चाहिए.

  • Share this:
    पंजाब के शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने राज्य के सभी निजी स्कूलों को निर्देश दिया कि वे अभिभावकों को विशेष दुकानों से किताबें और यूनिफॉर्म खरीदने के लिए मजबूर न करें. स्कूल परिसर में वर्दी और किताबों की बिक्री पर भी रोक लगा दी गई है. सीबीएसई, आईसीएसई और पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड से जुड़े सभी प्राइवेट स्कूलों के लिए निर्देश, कुछ प्राइवेट स्कूल के बच्चों के माता-पिता के शोषण की रिपोर्टों पर ध्यान देने के बाद आया है.

    शिक्षा मंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि एक बार स्कूलों में शुरू की गई वर्दी को कम से कम तीन साल तक चलाया जाना चाहिए. उस अवधि में ड्रेस के रंग और डिजाइन में कोई बदलाव नहीं किया जाना चाहिए.

    शिक्षा मंत्री सिंगला ने प्रेस रिलीज में कहा, वर्दी का डिजाइन, रंग, बनावट, सामग्री की डिटेल स्कूल की वेबसाइट पर अपलोड की जानी चाहिए ताकि अभिभावक तैयार यूनिफॉर्म खरीद सकें या अपनी पसंद से तैयार करवा सकें.

    स्कूल प्राधिकारियों को बोर्ड के सिलेबस के आधार पर जारी की गई किताबें इस्तेमाल की सलाह दी गई है. साथ ही कहा गया है उन किताबों की लिस्ट को स्कूल की वेबसाइट पर अपलोड करना अनिवार्य है. छात्रों या अभिभावकों की मर्जी, वे किताबें कहीं से भी खरीदें.

    मंत्री ने कहा, यह देखा गया है कि कुछ स्कूल प्राइवेट पब्लिशर्स की किताबें लेते हैं, वे स्कूल प्रबंधन के साथ मिलकर पिछले साल की किताबों के अध्यायों को आगे पीछे कर देते हैं, जबकि बोर्ड ने पाठ्यक्रम में कोई बदलाव नहीं किया होता. यह माता-पिता और बच्चों के साथ गलत किया जा रहा है. ऐसा इसलिए होता है ताकि वे सैकंड हैंड पुस्तकों का उपयोग न करें और नई पुस्तकों पर फिर से खर्च करें. इसलिए इसे रोकने की जरूरत है. माता-पिता या छात्रों को नई किताबें खरीदने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता.

    सिंगला ने कहा कि इन निर्देशों का पालन करने में विफल रहने वाले स्कूलों का no objection certificate रद्द कर दिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें-
    UPSC Recruitment 2019: कंबाइंड डिफेंस सर्विस के लिए वैकेंसी
    Success Story: IAS काजल ने बिना कोचिंग पाई 28वीं रैंक
    JEE Advance में आनंद के Super 30 से 18 स्टूडेंट्स पास
    Railway Recruitment 2019: इन पो्स्ट के लिए निकलीं 95 वैकेंसी