Punjab Teacher recruitment: पंजाब सरकार का बड़ा फैसला, 8393 पदों पर होगी प्री-प्राइमरी टीचर्स की भर्ती

पंजाब में प्रि-प्राइमरी टीचर्स की भर्ती की जाएगी.
पंजाब में प्रि-प्राइमरी टीचर्स की भर्ती की जाएगी.

प्रि-प्राइमरी स्तर पर शिक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए टीचर्स की भर्ती की जा रही है. इसमें शिक्षा विभाग में पहले से ही काम कर रहे वॉलंटियरों को कुछ छूट दी जाएगी

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 8:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब कैबिनेट (Punjab Cabinet) ने बुधवार को 8,393 पदों पर प्रि-प्राइमरी में टीचर्स के पदों को भरने के लिए की स्वीकृति दे दी ताकि स्कूलों को ज्यादा बेहतर बनाया जा सके. भर्तियों में मौजूदा हालात में शिक्षा विभाग में काम कर रहे वॉलंटियर्स को उम्र में छूट दी जाएगी और स्पेशल क्रेडिट भी दिया जाएगा. वर्चुअल कैबिनेट मीटिंग के दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि हालांकि, पंजाब में 12 हज़ार शिक्षको की जगह खाली है लेकिन पंजाब की इस समय की आर्थिक स्थिति ज्यादा टीचर्स को नियुक्त करने की इजाजत नहीं देती.

उन्होंने कहा कि इस बात की कोशिश की जाएगी कि जल्द से जल्द नियुक्ति कर ली जाए. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि सरकारी स्कूलों में प्रि-प्राइमरी लेबल पर शिक्षा को बेहतर बनाना काफी जरूरी है. मुख्यमंत्री ऑफिस के प्रवक्ता के मुताबिक 30 बच्चों पर एक टीचर के हिसाब से ये भर्तियां की जा रही हैं.

कैबिनेट की तरफ से स्कूल शिक्षा विभाग के उस प्रस्ताव को भी मंज़ूरी दे दी गई जिसके अंतर्गत वॉलंटियरों जैसे शिक्षा प्रोवाईडरों, एजुकेशन प्रोवाईडरों, एजुकेशन वॉलंटियरों, ईजीएस वॉलंटियरों, एआईई वॉलंटियरों और स्पेशल ट्रेनिंग रिसोर्स (एसटीआर) वॉलंटियरों आदि को अधिकतम आयु सीमा में छूट दी जाएगी. ये लोग अलग-अलग शिक्षा स्कीमों /प्रोग्रामों के अंतर्गत निश्चित मेहनताने पर काम कर रहे हैं और विभाग की तरफ से प्री-प्राईमरी अध्यापकों या ईटीटी अध्यापकों की रेगुलर भर्ती के लिए विज्ञापन देने के समय तक काफ़ी ज़्यादा तजुर्बा हासिल कर चुके हैं.



ये भी पढ़ेंः
BPSSC SI मुख्य परीक्षा का एडमिट कार्ड जारी, bpssc.bih.nic.in पर करें चेक
सितंबर सेशन की SWAYAM परीक्षा का एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड

अनुमान है कि अध्यापकों के पहले तीन साल में प्रोबेशन पीरियड के समय सालाना खर्च 103 करोड़ के करीब और प्रोबेशन पीरियड के बाद सालाना खर्च 374 करोड़ रुपये होगा. गौरतलब है कि पंजाब सरकार ने साल 2017 से ही प्रि-प्राइमरी क्लासेज शुरू की हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज