Rajasthan Board 10th, 12th Exams 2020 Update: राजस्थान बोर्ड परीक्षा की डेटशीट जारी होने के साथ ही छात्रों ने रखी ये मांग

Rajasthan Board 10th, 12th Exams 2020 Update: राजस्थान बोर्ड परीक्षा की डेटशीट जारी होने के साथ ही छात्रों ने रखी ये मांग
छात्रों की ओर से मांग की जा रही है कि उनके गृह जनपद में ही परीक्षा देने की सुविधा दी जाए.

Rajasthan Board 10th, 12th Exams 2020 Update: तमाम छात्र कोरोना वायरस महामारी के कारण अपने गृह जनपद में चले गए हैं जबकि उनका एनरोलमेंट किसी और स्कूल में है.

  • Share this:
नई दिल्ली. RBSE 10th, 12th Exams 2020 Update: राजस्थान में 10वीं और 12वीं कक्षा के बचे हुए विषयों की बोर्ड परीक्षा (Rajasthan Board 10th 12th Exam) की डेटशीट जारी होने के साथ ही अब छात्र इस बात की मांग कर रहे हैं कि परीक्षा छात्रों की सुविधा वाले सेंटर्स पर करवाई जाए न कि पहले से एलॉट किए गए सेंटर्स पर. इस तरह की मांग उठने का बड़ा कारण है कि तमाम छात्र कोरोना वायरस महामारी के कारण अपने गृह जनपद में चले गए हैं जबकि उनका एनरोलमेंट किसी और स्कूल में है. बता दें कि तमाम छात्र पढ़ाई के लिए दूसरे जिले में चले जाते हैं. 

राजस्थान बोर्ड रिजल्ट से जुड़ी जानकारी सबसे पहले पाने के लिए यहां रजिस्टर करें-


कोटा इसका बड़ा उदाहरण है. कोरोना वायरस की महामारी के चलते वे अपने घरों को वापस लौट आए थे. अब बची हुई परीक्षाओं की घोषणाओं के साथ ही अगर वे वापस परीक्षा देने के लिए दूसरे जिलों में जाएंगे तो उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है.



जून में होंगी परीक्षाएं
बता दें कि राजस्थान बोर्ड जून में बचे हुए विषयों की 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाएं लेगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसकी घोषणा की थी. घोषणा करने के साथ ही बोर्ड ने सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षा करवाने की तैयारी शुरू कर दी थी. हाल ही में सीबीएसई ने भी इसी तरह का कदम उठाया है, जिसके तहत छात्रों को उनकी सुविधानुसार उनके गृह जनपद में परीक्षा देने की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. पहले सीबीएसई ने घोषणा की थी कि छात्रों की परीक्षा उनके स्कूलों में ही कराई जाएगी लेकिन बाद में छात्रों को उनके जिले में परीक्षा देने की सुविधा दी गई.

पूरे प्रदेश में है 20 लाख छात्र
हालांकि, टाइम्स नाउ के मुताबिक बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि सीबीएसई में पूरे देश में 30 लाख छात्र हैं जबकि राजस्थान में कुल 20 लाख छात्र ऐसे में इस मोड़ पर सेंटर को बदलना काफी मुश्किल काम है. राजस्थान प्राइमरी और सेकेंडरी टीटर्स एसोसिएशन के वाइस प्रेसिडेंट का कहना है कि परीक्षा छात्रों के गृह जनपद में ही कराना ठीक है क्योंकि दूसरी जगह पर छात्रों का आना काफी मुश्किल होगा. हालांकि, लेटेस्ट अपडेट के लिए छात्र अपना ऑफिशियल वेबसाइट चेक करते रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज