SUCCESS STORY: चित्तौड़ की लेडी सिंघम MBA के बाद बनी इंस्पेक्टर, कायम कर रही है मिसाल

News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 6:53 PM IST
SUCCESS STORY: चित्तौड़ की लेडी सिंघम MBA के बाद बनी इंस्पेक्टर, कायम कर रही है मिसाल
ललिता खींची

ललिता अपने डिपार्टमेंट सबसे युवा और शिक्षित हैं. काम के प्रति उनकी लगन उन्हें निडर बनाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2019, 6:53 PM IST
  • Share this:
SUCCESS STORY: न्यूज18 हिंदी आपको हर दिन यूपीएससी, सिविल सेवा परीक्षा क्लीयर करने वाली एक हस्ती की सक्सेस स्टोरी से रूबरू कराता है. आज की ये कहानी सिविल सेवा परीक्षा में जीत हासिल करने वाली हस्ती की नहीं बल्कि राजस्थान स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन की महिला ट्रैफिक इंस्पेक्टर की है. इस कहानी में मिलिए ललिता खींची (Lalita Khinchi) से.

कहते हैं, मेहनत इतनी शांती से करो कि कामयाबी शोर मचा दे. ये सीख ललिता और उनके किरदार पर बखूबी फिट बैठती है. आज वे अपने काम से इतनी मशहूर हैं कि उन्हें राजस्थान के चित्तौड़ की लेडी सिंघम कहा जाता है. ललिता चित्तौड़ में राजस्थान पथ परिवहन निगम लिमिटेड की जिले भर की ट्रैफिक व्यवस्था संभाले हुए हैं.

ललिता के पास एमबीए की डिग्री भी है. इस डिग्री के आधार पर कॉरपोरेट जगत की अच्छी सैलरी वाली नौकरी पाकर वे तमाम सुख-सुविधाओं वाली ज़िंदगी जीतीं. पर उन्होंने अपने लिए अलग करियर चुना. ललिता हर शिफ्ट में, चाहे दोपहर हो आधी रात हमेशा अपनी ड्यूटी पर मुस्तैदी रहती हैं. उनके सहकर्मी ऑफिसर उनके साहस, और कठोर परिश्रम की प्रशंसा करते नहीं थकते.



वे राजस्थान स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कोर्पोरेशन में, उदयपुर डिपो में असिस्टेंट ट्रैफिक इंस्पेक्टर के पद पर भी रहीं. किसी भी समय गाड़ियों की सरप्राइज चेकिंग करना उनके काम का हिस्सा है. रोडवेज बस ऑपरेटर्स ने उन्हें रात के दो बजे भी सरप्राइज चेकिंग के लिए मुस्तैद देखा है. उनके रहते कोई भी गलत सामान अपनी गाड़ी में नहीं ले जा सकता था. उनका काम दिल्ली, मध्यप्रदेश, हरियाणा और गुजरात राज्यों से आने वाली गाड़ियों तक रहता है.

ललिता के डिपार्टमेंट में एक महीने में 20 रिपोर्ट देना बेहतर प्रदर्शन है. लेकिन उन्होंने हाल ही में 46 बस ऑपरेटर्स के खिलाफ रिपोर्ट की. वे अपनी नौकरी में सबसे युवा और शिक्षित हैं. काम के प्रति उनकी लगन उन्हें निडर बनाती है.

शासन प्रबंध के जनरल मैनेजर राकेश राजौरिया के मुताबित, ललिता जैसा कोई नहीं. उन्होंने कभी किसी चेकिंग के आर्डर को मना नहीं किया. वे सभी रोडवेज़ कर्मचारियों के लिए मिसाल पेश करती हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें-
Bihar Police ने जारी की बंपर भर्ती, योग्‍यता और वेतन जानें
SUCCESS STORY: छोटे भाई के हौसले से MBBS बहन रेहाना बनी IAS
पहली बार में फेल हुई इस IAS ने दूसरी बार में पाई 8वीं रैंक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चित्तौड़गढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 6:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...