निशंक ने शुरू किया 'स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन' का सॉफ्टवेयर एडिशन, जानें ये कैसे करेगा छात्रों की मदद

निशंक ने शुरू किया 'स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन' का सॉफ्टवेयर एडिशन, जानें ये कैसे करेगा छात्रों की मदद
निशंक ने स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 के ग्रांड फिनाले के सॉफ्टवेयर एडिशन की शुरूआत की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एक अगस्त को शाम सात बजे दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन हैकाथॉन के ग्रैंड फिनाले को संबोधित किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 2, 2020, 1:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 के ग्रांड फिनाले के सॉफ्टवेयर एडिशन की शुरूआत की. यह मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा आयोजित हैकाथॉन का चौथा संस्करण है. उनहोंने बताया, स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन आत्मनिर्भर भारत, दैनिक जीवन एवं गांव की समस्याओं के समाधान के लिये युवाओं को एक मंच प्रदान करता है. इससे वे पिछले वर्षो में लाभाकारी चीजों को बाजार में लाने में सफल भी रहे हैं.

गांव की समस्याओं के समाधान के लिये युवाओं को मंच
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत की शुरूआत की है और आत्मनिर्भर भारत गांव से शुरू होता है. उन्होंने कहा, स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन में बच्चों के विचार और अनुसंधान मूल रूप से गांव की समस्याओं पर केंद्रित हैं.

गांव की समस्याओं के समाधान का रास्ता 
ये ऐसे विचार हैं जो आत्मनिर्भर भारत और गांव की समस्याओं के समाधान का रास्ता प्रदान करते हैं. निशंक ने कहा कि ऐसे समय में जब देश-दुनिया कोविड-19 महामारी के संकट से जूझ रही है तब हैकाथॉन के माध्यम से बच्चों ने औषधि के क्षेत्र में खोज की दिशा में काम किया है.



छात्र-छात्राओं के अनुसंधान के आधार पर मिली मदद
स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के माध्यम से छात्र-छात्राओं के अनुसंधान के आधार पर हम कम समय में लाभकारी चीजों को बाजार में लाने में सफल रहे हैं. इस अवसर पर शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे, एआईसीटीई के अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे और सचिव अमित खरे आदि भी मौजूद थे.

4.5 लाख से अधिक छात्रों ने भाग लिया
मंत्रालय के बयान अनुसार, स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2017 के पहले संस्करण में 42,000 छात्रों की भागीदारी थी, जो 2018 में बढ़कर 1 लाख और 2019 में 2 लाख के पार हो गई. स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 के पहले दौर में 4.5 लाख से अधिक छात्रों ने भाग लिया.

सॉफ्टवेयर संस्करण का ग्रैंड फिनाले
इस वर्ष सॉफ्टवेयर संस्करण का ग्रैंड फिनाले पूरे देश में सभी प्रतिभागियों को एक विशेष रूप से निर्मित उन्नत प्लेटफॉर्म पर एक साथ जोड़कर ऑनलाइन आयोजित किया जा रहा है. 37 केंद्रीय सरकारी विभागों, 17 राज्य सरकारों और 20 उद्योगों की 243 समस्याओं को हल करने के लिए 10,000 से अधिक छात्र प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं.

ग्रैंड फिनाले को PM ने किया संबोधित
प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी शनिवार शाम को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 के ग्रैंड फिनाले को संबोधित करेंगे. इस अवसर पर वे छात्रों के साथ बातचीत भी करेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक अगस्त को ‘स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन’ के ग्रैंड फिनाले को संबोधित किया.

क्या है ‘स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन’
‘स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन’ हमारे देश के सामने आने वाली चुनौतियों को हल करने के लिए नयी और डिजिटल प्रौद्योगिकी नवाचारों की पहचान करने की एक पहल है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एक अगस्त को शाम सात बजे दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन हैकाथॉन के ग्रैंड फिनाले को संबोधित किया.

ये भी पढ़ें-
दिल्ली यूनिवर्सिटी में 10 अगस्त से शुरू होगा नया एकेडमिक सेशन, जानें डिटेल
JKPSC Recruitment: मेडिकल ऑफिसर के 900 पदों पर हो रही भर्ती, जानें सैलरी

प्रथम, द्वितीय और तृतीय छात्रों को ईनाम
निशंक ने कहा, इस साल, हमारे पास 10,000 से अधिक छात्र होंगे जो केंद्र सरकार के 37 विभागों, 17 राज्य सरकारों और 20 उद्योगों के 243 समस्या बयानों को हल करने के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे. प्रत्येक समस्या बयान के लिए एक लाख रुपये की पुरस्कार राशि होगी, छात्र नवाचार विषय को छोड़कर जिसमें तीन विजेता होंगे, प्रथम, द्वितीय और तृतीय और पुरस्कार राशि क्रमशः एक लाख रुपये, 75,000 और 50,000 रुपये की होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading