RBSE 10th Result: राजस्थान बोर्ड 10वीं में 79.85% स्टूडेंट्स पास, ये है पिछले साल का रिपोर्ट कार्ड

RBSE 10th Result: राजस्थान बोर्ड 10वीं में 79.85% स्टूडेंट्स पास, ये है पिछले साल का रिपोर्ट कार्ड
राजस्थान बोर्ड की पिछले साल की परीक्षा में लड़कियों का दबदबा रहा था.

राजस्थान बोर्ड (Rajasthan Board) की दसवीं के एग्जाम में पिछले साल करीब 12 लाख छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया था.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान बोर्ड (Rajasthan Board) के इस साल के रिजल्ट थोड़ी ही देर में जारी होने वाले हैं. बोर्ड मंगलवार 28 जुलाई को शाम चार बजे नतीजे घोषित करेगा. इस बार दसवीं की परीक्षा में हिस्सा लेने वाले 11 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर परिणाम देख सकते हैं. बोर्ड पिछले तीन सालों की तरह इस साल भी मेरिट लिस्ट जारी नहीं करेगा. बेशक सभी की निगाहें थोड़ी देर में आने वाले परिणाम पर टिकी हैं, लेकिन हम आपको बता रहे हैं कि राजस्थान बोर्ड के पिछले साल के दसवीं के रिजल्ट का क्या रहा था.

पिछले साल 79.85 प्रतिशत रहा परिणाम
राजस्थान बोर्ड के पिछले साल दसवीं के एग्जाम में करीब 12 लाख छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया था. साल 2019 में दसवीं में 79.85 फीसदी स्‍टूडेंट्स पास हुए थे. दिलचस्प बात है कि साल 2018 के मुकाबले रिजल्ट में बेहद मामूली सा ही अंतर आया था. 2019 की तुलना में साल 2018 में राजस्थान बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में 0.01 फीसदी स्टूडेंट्स ही ज्यादा पास हुए थे.

2019 में लड़कियों के नाम रही दसवीं की बाजी
पिछले साल यानी 2019 में राजस्थान बोर्ड ने दसवीं की परीक्षा 14 मार्च से लेकर 27 मार्च के बीच आयोजित की थी. तब दसवीं की परीक्षा में लड़कियों ने लड़कों के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन किया था, लेकिन ये अंतर बहुत ज्यादा नहीं आंका जा सकता. दरअसल, पिछले साल दसवीं में लड़कियों का पास प्रतिशत 80.35 रहा था, जबकि इसकी तुलना में परीक्षा में 79.45 प्रतिशत लड़के पास हुए थे.



ये भी पढ़ें
बड़ी बात: देशभर के 43 लाख स्टूडेंट्स को छोड़नी पड़ सकती है पढ़ाई, ये है वजह
MP Board 12th Result 2020: MP बोर्ड 12वीं के रिजल्ट से जुड़ी 10 बातें

मेरिट लिस्ट जारी नहीं करता बोर्ड
राजस्थान बोर्ड 2017 से टॉपर्स की लिस्ट जारी नहीं करता. इसके अलावा टॉपर्स के नाम की भी घोषणा नहीं करता है. दरअसल, बोर्ड की ओर से रिजल्ट जारी होने के बाद परीक्षार्थियों से परिणाम को लेकर आपत्तियां आमंत्रित करता है और ऐसे में प्राप्त अभ्यर्थानाओं के आधार पर संशोधित परिणाम तैयार होता है. हालांंकि इसके बाद भी टॉपर्स की लिस्ट जारी नहीं की जाती और सीधे दीक्षान्त समारोह में ही टॉपर्स को गोल्ड मेडल प्रदान किए जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading