RBSE 12th Result 2020: राजस्थान बोर्ड 12वीं साइंस के नतीजों में लड़कियों ने मारी बाजी, 94.60% पास

राजस्थान बोर्ड के दसवीं और बारहवीं के नतीजे इस बार चार चरणों में जारी होंगे.
राजस्थान बोर्ड के दसवीं और बारहवीं के नतीजे इस बार चार चरणों में जारी होंगे.

RBSE Rajasthan Board 12th Science Result 2020: इस साल राजस्थान बोर्ड 12वीं साइंस स्ट्रीम का एग्जाम देने वाले करीब ढाई लाख स्टूडेंट्स अपना परिणाम बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट rajresults.nic.in पर चेक कर सकते हैं.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Rajasthan Board Result 2020) के 12वीं विज्ञान वर्ग के नतीजे आज जारी किये गए. शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने शाम चार बजे माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के दफ्तर में ये रिजल्ट जारी किया. बोर्ड की 12वीं विज्ञान में 2 लाख 39 हजार 800 छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया था जिसमें से 2.18 लाख परीक्षार्थी पास हुए. इस बार कुल पास प्रतिशत 91.96 रहा, जबकि पिछले साल 92.88 फीसदी रिजल्ट आया था. वहीं इस साल मेरिट लिस्ट भी जारी नहीं की गई है. बोर्ड की ओर से बताया गया कि मेरिट लिस्ट स्क्रूटिनी के बाद जारी की जाएगी.

राजस्थान बोर्ड की 12वीं साइंस स्ट्रीम में इस बार लड़कियों का दबदबा रहा. इस साल 94.60 प्रतिशत लड़कियों ने बाजी मारी को वहीं 90.61 फीसदी लड़के पास हुए. पिछले साल राजस्थान बोर्ड की 12वीं विज्ञान की परीक्षा में जहां 91.59 प्रतिशत लड़के पास हुए थे, वहीं उनकी तुलना में 95.86 फीसदी लड़कियों ने अपना परचम लहराया था.

ये भी पढ़ें- RBSE 12th Science Result: राजस्थान बोर्ड 12वीं का रिजल्ट इन वेबसाइट्स पर देखें



साथ साथ जारी होता रहा है साइंस और कॉमर्स का रिजल्ट
पिछले 3-4 बरसों से राजस्थान बोर्ड की पंरपरा रही है कि 12वीं साइंस और कॉमर्स का परिणाम एक साथ आता रहा है. लेकिन इस बार दोनों को अलग-अलग कर दिया गया है. इस बार बोर्ड पहले केवल 12वीं साइंस का रिजल्ट जारी किया गया. उसके बाद 12वीं कॉमर्स का परिणाम घोषित होगा. फिर 12वीं कला संकाय का परिणाम आयेगा. सबसे अंत में 10वीं का परिणाम जारी होगा. जुलाई के अंत तक सभी परिणाम जारी होने की संभावना है.

ये भी पढे़ं- राजस्थान बोर्ड जारी नहीं करता टॉपर्स लिस्ट, ये है वजह

पिछले साल 92.88 फीसदी था रिजल्ट
राजस्थान बोर्ड के पिछले साल के रिजल्ट की बात करें तो साल 2019 में 12वीं विज्ञान की परीक्षा में कुल 2 लाख 60 हजार 582 परीक्षार्थी पंजीकृत थे जिसमें से 2 लाख 57 हजार 719 ने परीक्षा दी थी. परीक्षा में बैठे कुल 2 लाख 57 हजार 719 विद्यर्थियो में से 2 लाख 39 हजार 367 पास हुए थे. तब कुल पास प्रतिशत 92.88 फीसदी रहा था. इनमें से फर्स्ट डिवीज़न पास होने वाले 1 लाख 78 हजार 362 विद्यार्थी थे जबकि सेकेंड डिवीज़न में 55 हजार 558 पास हुए. इसी तरह थर्ड डिवीज़न में 373 उत्तीर्ण हुए और महज़ पास वाली श्रेणी में 5 हजार 74 विद्यार्थी शामिल थे, जबकि 4 हजार 697 विधायर्थियों की सप्लीमेंट्री आई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज