दिल्ली के स्कूल दोबारा खोलने पर अहम फैसला, शिक्षा मंत्री ने उठाया ये बड़ा कदम

दिल्ली के स्कूल दोबारा खोलने पर अहम फैसला, शिक्षा मंत्री ने उठाया ये बड़ा कदम
देशभर के स्कूल कोरोना वायरस की वजह से दो महीने से भी ज्यादा वक्त से बंद हैं.

दिल्ली के स्कूल (Delhi Schools) 16 मार्च से ही बंद हैं. अब इन्हें दोबारा खोलने पर विचार किया जा रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देशभर के अन्य हिस्सों की तरह अब दिल्ली (Delhi) में भी दो महीने से भी ज्यादा वक्त से बंद पड़े स्कूलों को दोबारा खोलने की कवायद फिर से शुरू हो गई है. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देशभर के स्कूल 16 मार्च से बंद कर दिए गए थे. हालांकि अब सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियमों का पालन करते हुए स्कूलों को दोबारा खोलने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है. यही वजह है कि अब दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने इसे लेकर अहम कदम उठाया है.

माइक्रो प्लान लेकर आगे आएं प्रिंसिपल्स
दरअसल, टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली (Delhi) के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने स्कूल दोबारा खोलने को लेकर हजारों सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स से सुझाव मांगे हैं. सिसोदिया ने प्रिंसिपल्स से स्कूल दोबारा खोले जाने को लेकर माइक्रो प्लान लेकर आने को कहा है.

मनीष सिसोदिया ने की अपील
सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स से बात करते हुए शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कहा, मैं आपसे अपील करता हूं कि आने वाले समय में स्कूल के स्तर पर पढ़ाई में किस तरह का बदलाव हो, उसे लेकर इससे जुड़े सभी स्टेकहोल्डर्स माइक्रो प्लान लेकर आगे आएं. हालांकि उन्होंने ये भी साफ कर दिया कि उनका मानना है कि सभी स्कूलों पर एक ही योजना लागू नहीं की जा सकती.



स्कूल सामाजिक जीवन का अभिन्न अंग
मनीष सिसोदिया ने कहा, हम इस योजना पर इसलिए काम कर रहे हैं क्योंकि हमें अंतिम निर्णय करने से पहले कई बातों पर विचार करने की जरूरत है. सिर्फ सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन से अकेले काम नहीं चल सकता. कोई भी निर्णय बच्चों और अभिभावकों पर गहरा असर डालेगा क्योंकि स्कूल हमारे सामाजिक जीवन का अभिन्न हिस्सा हैं. सिसोदिया ने प्रिंसिपल्स के साथ ऑनलाइन मीटिंग में ये बात कही. सिसोदिया इस साल पहली बार प्रिंसिपल्स से मुखातिब थे. उन्होंने उम्मीद जताई कि इस चुनौतीपूर्ण समय में शिक्षा के नए मानक स्थापित किए जाएंगे.

16 मार्च से बंद हैं स्कूल-कॉलेज
कोरोना वायरस के चलते भारत में पहली बार 24 मार्च को लॉकडाउन घोषित किया गया था, जो 21 दिन का था. बाद में इसे बढ़ाकर 3 मई तक बढ़ा दिया गया. लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई तक बढ़ाया गया और फिर इसकी अवधि बढ़ाकर 31 मई कर दी गई. हालांकि लॉकडाउन घोषित करने से पहले ही 16 मार्च को देशभर के स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए थे.

HRD मंत्री ने की बड़ी घोषणा, छात्र अपने ही शहर में दे पाएंगे बोर्ड एग्जाम

बड़ी खबर: स्कूल-कॉलेज दोबारा खोलने पर लटकी तलवार, गृह मंत्रालय ने दिया ये बयान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज