Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    CBSE बोर्ड परीक्षा स्थगित करने के पक्ष में नहीं हैं दिल्ली के स्कूलों के प्रिंसिपल

    स्कूल प्रशासनों ने कहा कि बोर्ड परीक्षाएं 15 मार्च से अधिक नहीं टाली जानी चाहिए.
    स्कूल प्रशासनों ने कहा कि बोर्ड परीक्षाएं 15 मार्च से अधिक नहीं टाली जानी चाहिए.

    सीबीएसई को भेजे पत्र में शिक्षा निदेशालय ने कहा था कि कोविड-19 के कारण वर्तमान सत्र के लगभग सात महीने कक्षा में शिक्षण नहीं हो सका.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 3, 2020, 11:27 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी और आसपास के इलाकों के अनेक स्कूलों के प्राचार्य कोविड-19 महामारी के कारण स्कूलों के लगातार बंद रहने की वजह से अगले साल सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा स्थगित करने के पक्ष में नहीं हैं.

    परीक्षाओं को स्थगित करना सही कदम नहीं
    स्कूल प्राचार्यों का मानना है कि बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करना सही कदम नहीं होगा क्योंकि इससे उच्च शिक्षा की प्रवेश परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया का कार्यक्रम भी प्रभावित होगा और इससे छात्रों को भी परेशानी का सामना करना पड़ेगा.

    अगले साल मई से पहले बोर्ड परीक्षाएं नहीं करवाई जाएं
    दिल्ली सरकार ने पिछले महीने सीबीएसई को पत्र लिखकर कहा था कि अगले साल मई से पहले बोर्ड परीक्षाएं नहीं करवाई जाएं और पाठ्यक्रम भी घटाया जाए क्योंकि कोरोना वायरस महामारी के कारण अब भी स्कूल बंद हैं.



    बोर्ड परीक्षाओं के स्थगन का छात्रों के विकास पर गंभीर असर 
    दिल्ली इंटरनेशनल स्कूल की प्राचार्य प्रियंका बरार ने कहा, ‘‘बोर्ड परीक्षाओं के स्थगन का, दूर रहकर पढ़ाई कर रहे छात्रों के विकास और प्रदर्शन पर गंभीर असर पड़ सकता है क्योंकि यह सत्र दूरस्थ शिक्षण से परिचित होने का रहा है, छात्रों और शिक्षकों दोनों के लिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘टीके के विकास के संबंध में कोई ठोस परिणाम नहीं मिलते दिख रहे ऐसे में अभिभावक बच्चों को स्कूल नहीं भेजेंगे. इसलिए बोर्ड परीक्षाओं को टालकर हम फिर से वक्त बरबाद करता नहीं देखना चाहते.’’

    सर्वे में पूछा गया था परीक्षाएं कब करवाई जानी चाहिए? 
    शालीमार बाग स्थित मॉर्डन पब्लिक स्कूल की प्राचार्य अलका कपूर दिल्ली सहोदय स्कूल कॉम्प्लेक्स की अध्यक्ष भी हैं. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर प्राचार्यों और शिक्षकों की राय जानने के लिए एक सर्वे करवाया गया था. उन्होंने बताया, ‘‘हमसे पूछा गया था कि परीक्षाएं कब करवाई जानी चाहिए? अधिकांश स्कूल प्रशासनों ने कहा कि बोर्ड परीक्षाएं 15 मार्च से अधिक नहीं टाली जानी चाहिए. चूंकि सीबीएसई बोर्ड की बारहवीं की परीक्षा का परिणाम और उच्च शिक्षा की प्रवेश परीक्षाएं आपस में जुड़े हैं ऐसे में परीक्षाओं को टालने से अनावश्यक भ्रम पैदा होगा.’’

    ये भी पढ़ें -
    JOBS: आयोग ने निकाली हैं सरकारी नौकरियां, जानें सैलेरी, पूरी डिटेल
    स्कूल खोलने को लेकर सरकार का बड़ा फैसला, जानिए पूरी अपडेट

    परीक्षाओं के बीच में तीन से चार दिन का अंतर दिया जाए
    कपूर ने कहा,‘‘ दूसरी बात यह कि हम सब इस बात पर सहमत थे कि पाठ्यक्रम को और घटाना ठीक नहीं होगा बल्कि छात्रों को परीक्षाओं के बीच में कम से कम तीन से चार दिन का अंतर दिया जाए.’’ सीबीएसई को भेजे पत्र में शिक्षा निदेशालय ने कहा था कि कोविड-19 के कारण वर्तमान सत्र के लगभग सात महीने कक्षा में शिक्षण नहीं हो सका.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज