लाइव टीवी

Success Story: IIT बॉम्बे से की थी पढ़ाई, पहले ही अटेंप्ट में पाई AIR 4

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 5:17 PM IST
Success Story: IIT बॉम्बे से की थी पढ़ाई, पहले ही अटेंप्ट में पाई AIR 4
श्रेयांस ने UPSC CSE 2018 में पहले ही अटेंप्ट AIR 4 हासिल की.

श्रेयांस ने कुल 2025 में से 1071 नंबर हासिल किए. जिसमें मेन्स में 887 और इंटरव्यू में 184 नंबर पाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 5:17 PM IST
  • Share this:
Success Story: न्यूज18 हिंदी पर आप हर दिन एक ऐसी हस्ती की कहानी पढ़ते हैं, जिसने विषम परिस्थितियों से लड़कर अपने फील्ड में कामयाबी हासिल कर मिसाल कायम की. यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के लिए हर साल लाखों उम्मीदवार उपस्थित होते हैं. कामयाब हुए हर उम्मीदवार का तजुर्बा कुछ न कुछ सिखाता है. आज की कहानी में मिलिए Shreyans Kumat (श्रेयांस कुमत) से. श्रेयांस ने UPSC CSE 2018 में पहले ही अटेंप्ट में AIR 4 हासिल की. जानिए इन्हीं की कहानी.

राजस्थान के अजमेर के श्रेयांस ने IIT बॉम्बे से Mechanical Engineering में Bachelor of Technology किया. जिसके बाद दो साल तक Ernst & Young Firm में दो साल तक बतौर मैनेजमेंट कंसलटेंट काम किया. नौकरी के दूसरे साल के दौरान, मैंने सिविल सेवा के बारे में अपने अगले करियर विकल्प के रूप में विचार करना शुरू किया. फिर काफी रिसर्च के बाद तैयारी करना शुरू किया. नौकरी छोड़कर सिविल सर्विस एग्जाम देना चुना.

सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी के लिए श्रेयांस ने ऑनलाइन और ऑफलाइन बेहतर कोचिंग प्रोग्राम्स तलाशे. इसके बाद उन्होंने सेल्फ स्टडी की. तैयारी के दौरान उन्होंने पाया कि ऑफ़लाइन क्लासेज की मदद से बेसिक तैयार किया. जिससे कोर्स के बाकी हिस्सों को कवर करने के लिए बेस तैयार हुआ. हालांकि इसमें इंटरनेट के जरिए भी मदद मिली. वह प्रतिदिन 6-10 घंटे पढ़ाई करते थे.

श्रेयंस ने पहले ही प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा को क्रैक कर लिया. उन्होंने एंथ्रोपोलॉजी को मेन्स परीक्षा में ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में चुना था. श्रेयांस ने कुल 2025 में से 1071 नंबर हासिल किए. जिसमें मेन्स में 887 और इंटरव्यू में 184 नंबर पाए.

यूपीएससी एग्जाम देने वाले कैंडीडेट्स हर दिन अखबार पढ़ें, मॉडल प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें और अपने वैकल्पिक विषय पर पकड़ बनाएं. यही सफलता की कुंजी है. इसके साथ ही, न केवल प्रीलिम्स बल्कि एक ही समय में main एग्जाम के लिए भी खुद को तैयार करें.

ये भी पढ़ें-
विकलांगता के बावजूद पहली बार में 9वीं रैंक हासिल कर बनीं IAS
Loading...

success story: कभी मिलता था सिर्फ एक वक्त का खाना,आज हैं IAS अफसर
Success Story: सिर से उठा मां-बाप का साया, बेटी हिम्मत कर फिर भी बनी IAS

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अजमेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 1:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...