Success Story: अमित शुक्ला ने किया साबित असफलता रुकावट नहीं, बताया सक्सेस मंत्र

Success Story: अमित शुक्ला ने किया साबित असफलता रुकावट नहीं, बताया सक्सेस मंत्र
यूपीपीसीएस-2017 के टॉपर अमित शुक्ला ने PCS- 2015 का एग्जाम भी दिया था, लेकिन क्वालीफाई नहीं कर पाए थे.

टॉपर करने के बाद अमित ने कहा, किसी भी उम्मीदवार के लिए परीक्षा की तैयारी के दौरान टाइम स्लॉट जैसी कोई चीज नहीं होनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 11:17 AM IST
  • Share this:
Success Story UPPSC PCS 2017 Topper:  आज की सक्सेस स्टोरी में मिलिए अमित शुक्ला से. अमित ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग यूपीपीसीएस-2017 (UPPCS 2017) के रिजल्ट में टॉप किया है. वे डिप्टी कलेक्टर चुने गए है. अमित के लिए सफलता का मंत्र, असफलता के बावजूद दृढ़ संकल्प और बार-बार प्रयास रहा. अमित प्रतापगढ़ जिले के कुंडा के मूल निवासी है. उन्होंने इस साल सफलता का स्वाद चखने से पहले तीन प्रयास किए थे.

वे इससे पहले PCS- 2015 में बैठे थे, लेकिन क्वालीफाई नहीं कर पाए थे. हालांकि 2016 के प्रयास मे उन्हें टैक्स ऑफिसर के रूप में चुना गया था. अमित अपनी उपलब्धि से संतुष्ट नहीं थे. इसके बाद वे लगातार तैयारी में जुटे रहे और इस साल उन्होंने टॉप किया.

टॉपर करने के बाद अमित ने कहा, किसी भी उम्मीदवार के लिए परीक्षा की तैयारी के दौरान टाइम स्लॉट जैसी कोई चीज नहीं होनी चाहिए. हर दिन 8 से 10 घंटे की पढ़ाई जैसा कोई जादुई मंत्र नहीं है. असल में कामयाबी के लिए कमिटमेंट और महत्वाकांक्षा मायने रखती है.



अमित तैयारी के दौरान तीन दिन के लिए लक्ष्य निर्धारित करते थे. जिसके बाद आधे दिन क्रिकेट देखते और कॉमिक्स पढ़ते थे. इंजीनियरिंग डिग्री पूरी करने के बावजूद भी उन्होंने पीसीएस के लिए सोशल वर्क और भूगोल को बतौर विषय चुना.
तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के लिए अमित ने कहा कि एग्जाम देने जा रहे कैंडीडेट को लगातार तैयारी का आत्मनिरीक्षण करना चाहिए. फिर उसी के अनुसार सुधारात्मक कदम उठाने चाहिए. उम्मीदवारों को परीक्षा की तैयारी के लिए एजुकेशनल वेबसाइट्स के साथ आधिकारिक सरकारी वेबसाइट्स पर भी भरोसा करना चाहिए.

अमित ने स्कूली पढ़ाई इलाहाबाद के गंगा गुरुकुलम स्कूल से की. 10वीं कक्षा में उन्होंने 81% और 12वीं में 84% नंबर हासिल किए. 2014 में एनआईटी-भोपाल के लिए चुने गए. वहां से बीटेक (मैकेनिकल) पूरी की. निजी कंपनी में काम किया लेकिन जल्द ही अपनी महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए नौकरी छोड़ दी.

ये भी पढ़ें-
रेलवे में 2590 वैकेंसी, नहीं देना होगा एंट्रेंस, 10वीं पास करें अप्लाई
HSC exam 2020: महाराष्ट्र बोर्ड ने 12वीं के एग्जाम पैटर्न में किए ये बदलाव
बिहार संस्कृत एजुकेशन बोर्ड ने जारी किया Madhyama result 2019, लड़के आगे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading