UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2020: प्रीलिम्स परीक्षा में अतिरिक्त प्रयास की मांग वाली याचिका स्थगित

यूपीएससी ने खारिज की याचिका.
यूपीएससी ने खारिज की याचिका.

सुप्रीम कोर्ट से 2021 में होने वाली प्रीलिम्स परीक्षा के लिए एक अतिरिक्त प्रयास देने की मांग करते हुए 24 अभ्यर्थियों ने याचिका दायर की थी और कोरोना वायरस का हवाला देते हुए पढ़ाई प्रभावित होने की बात कही थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 6:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission, UPSC) की सिविल सेवा प्रीलिम्स परीक्षा (Civil Service Prelims Exam) में अतिरिक्त प्रयास देने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई स्थगित हो गई. सुप्रीम कोर्ट से 2021 में होने वाली प्रीलिम्स परीक्षा के लिए एक अतिरिक्त प्रयास देने की मांग करते हुए 24 अभ्यर्थियों ने याचिका दायर की थी और कोरोना वायरस का हवाला देते हुए पढ़ाई प्रभावित होने की बात कही थी. इसके अलावा अभ्यर्थियों ने कहा कि हमारी उम्र सीमा पूरी हो जाएगी इसलिए एक प्रयास के लिए योग्य माना जाए.

अतिरिक्त प्रयास देने के लिए पड़ी थी याचिका
न्यायमूर्ति एएम खानविल्कर की अध्यक्षता वाली न्यायाधीशों की पीठ ने याचिका पर सुनवाई की. उन्होंने याचिकाकर्ताओं के वकील अधिवक्ता अतुल अग्रवाल से कहा कि वे याचिका की एक प्रति संघ लोक सेवा आयोग के वकील को दें. कुछ उम्मीदवार जो अंतिम बार परीक्षा में शामिल हो रहे थे, उन्हें आयु में योग्यता का सामना करना पड़ रहा था. उन्होंने ही कोर्ट में इस नियम में छूट देने का आग्रह किया था.





परीक्षा पर रोक लगाने से किया था इनकार
पिछली बार सुप्रीम कोर्ट ने 30 सितम्बर को यूपीएससी सिविल सर्विस प्रीलिम्स परीक्षा पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था. उस समय न्यायमूर्ति एएम खानविल्कर की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र से उन अभ्यर्थियों को एक और मौका देने पर विचार करने को कहा था जो Covid ​​-19 महामारी के कारण परीक्षा के अपने अंतिम प्रयास में उपस्थित नहीं हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें-
AP EAMCET रिजल्ट 2020 sche.ap.gov.in पर जारी, डायरेक्ट लिंक से करें चेक
Odisha CPET 2020 PG कोर्स में दाखिले के लिए 12 अक्टूबर से शुरू, चेक करें डिटेल

परीक्षा के लिए जारी हुए थे निर्देश
कोर्ट ने अपने ऑर्डर में कहा कि हाल ही के दिनों में परीक्षाएं हुई हैं और गृह मंत्रालय द्वारा परीक्षाओं के आयोजन के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेशन प्रोसेस (SOP) का पालन किया जा रहा है. याचिकाकर्ताओं द्वारा सभी परीक्षा केन्द्रों में परिवहन के साधनों की कमी की पुष्टि नहीं की गई थी. यूपीएससी परीक्षा के लिए सामान्य अभ्यर्थियों के लिए 32 साल तक की उम्र तक 6 बार परीक्षा देने का मौका है. OBC अभ्यर्थियों के लिए 35 साल की उम्र तक 9 मौके होते हैं और SC/ST के लिए 37 साल की उम्र तक असीमित मौके होते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज