होम /न्यूज /करियर /Suvichar : पढ़ाई, अध्यात्म, अध्ययन, अन्याय पर पढ़ें शहीद भगत सिंह के 10 प्रेरक विचार

Suvichar : पढ़ाई, अध्यात्म, अध्ययन, अन्याय पर पढ़ें शहीद भगत सिंह के 10 प्रेरक विचार


Suvichar : संघर्ष में मरना एक आदर्श मृत्यु है.

Suvichar : संघर्ष में मरना एक आदर्श मृत्यु है.

Suvichar : भगत सिंह सिर्फ 23 साल की उम्र में शहीद होकर न सिर्फ शहीदे-आजम कहलाए. बल्कि, उनके विचार लाखों लोगों को आज भ ...अधिक पढ़ें

Suvichar : महज 23 साल की उम्र में भारत की स्वतंता के लिए हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर लटक जाने वाले भगत सिंह के विचार हर किसी को प्रभावित करते हैं. उन्होंने हिंसक क्रांति का रास्ता अख्तियार करते हुए भी विचारों और अहिंसक क्रांति को जरूरी माना. उन्होंने ब्रिटेन से आजादी के साथ देश के भीतर मौजूद समस्याओं को को भी बराबर महत्व दिया. उन्होंने एक समाजवादी राष्ट्र बनाने का सपना देखा. आज हम भगत सिंह के 10 प्रेरक विचारों को पढ़ेंगे.

हमारी दशा उस समय दयनीय और हास्यपद हो जाती है, जब हम अपने जीवन में अकारण ही रहस्यवाद प्रविष्ट कर लेते हैं, यद्यपि इसके लिए कोई प्राकृतिक या ठोस आधार नहीं होता. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, सुखदेव को भूख हड़ताल के दौरान एक पत्र से)

आज हमारे समाज में होने वाले दमन के खिलाफ कौन सी आवाज उठ रही है और स्थाई शांति की स्थापना के लिए कैसे विचार उठ रहे हैं, उन्हें ठीक से समझे बिना इंसान का ज्ञान अधूरा रह जाता है. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, अराजकतावाद-1)

थोपी हुई अज्ञानता ने एक ओर से और बुद्धिजीवियों की उदासीनता ने दूसरी ओर से शिक्षित क्रांतिकारियों और हथौड़े दरांतवाले उनके अभागे अर्धशिक्षित साथियों के बीच एक बनावटी दीवार खड़ी कर दी है. क्रांतिकारियों को इस दीवार को अवश्य ही गिराना है.  (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, अराजकतावाद-1)

जो नौजवान दुनिया में तरक्की करना चाहते हैं, उन्हें वर्तमान युग में महान और उच्च विचारों का अध्ययन करना चाहिए. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, अराजकतावाद-1)

हमारा देश बहुत आध्यात्मवादी है, लेकिन हम मनुष्य को मनुष्य का दर्जा देने में भी झिझकते हैं, जबकि पूर्ण रूप से भौतिकवादी कहलाने वाला यूरोप कई सदियों से इंकलाब की आवाज उठा रहा है. उसने अमेरिका और फ्रांस की क्रांतियों के दौरान ही समानता की घोषणा कर दी थी. आज रूस ने भी हर प्रकार का भेदभाव मिटाकर क्रांति के लिए कमर कस ली है. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, अछूत समस्या)

आलोचना और स्वतंत्र विचार, दोनों ही एक क्रांतिकारी के अनिवार्य गुण हैं. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, मैं नास्तिक क्यों हूं)

हमारे इंकलाब का अर्थ पूंजीवादी युद्धों की मुसीबतों का अंत करना है. मुख्य उद्देश्य और उसे प्राप्त करने की प्रक्रिया समझे बिना किसी के संबंध में निर्णय देना उचित नहीं. गलत बातें हमारे साथ जोड़ना साफ-साफ अन्याय है. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, बम कांड पर हाईकोर्ट में बयान)

अपमान से भरी गुलामी की जिंदगी से तो मौत हजार दर्जा अच्छी है. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, शहीद करतार सिंह सराभा)

भूख और दुख से आतुर होकर मनुष्य सभी सिद्धांत ताक पर रख देता है. सच है, मरता क्या न करता. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, सांप्रदायिक दंगे और उनका इलाज)

प्रयत्नशील होना एवं श्रेष्ठ और उत्कृष्ठ आदर्श के लिए जीवन दे देना कदापि आत्महत्या नहीं कही जा सकती. (भगत सिंह के संपूर्ण दस्तावेज, सुखदेखव को भूख हड़ताल के दौरान एक और पत्र)

ये भी पढ़ें-
Bank Jobs 2023 : नेशनल हाउसिंग बैंक में इकोनॉमिस्ट सहित कई पदों पर नौकरियां, 5 लाख रुपये महीने तक मिलेगी सैलरी
success story: मजदूर पिता के तीन बच्चों ने एक साथ पास की सिविल सेवा परीक्षा

Tags: Career Tips, Job and career, Shaheed Bhagat Singh

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें