CV में इन 5 गलतियों की वजह से नहीं मिलती है नौकरी, जानें डिटेल

अक्सर जब भी हम अपना सीवी बनाते हैं तो ये मानकर चलते हैं कि हमनें जो CV बनाया है वो बिल्‍कुल परफेक्‍ट है लेकिन अक्‍सर ऐसा नहीं होता है. उसमें कई ऐसी खामियां हो सकती हैं, जिन्‍हें हम नजरअंदाज कर देते हैं.

News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 10:03 AM IST
CV में इन 5 गलतियों की वजह से नहीं मिलती है नौकरी, जानें डिटेल
अक्सर जब भी हम अपना सीवी बनाते हैं तो ये मानकर चलते हैं कि हमनें जो CV बनाया है वो बिल्‍कुल परफेक्‍ट है लेकिन अक्‍सर ऐसा नहीं होता है. उसमें कई ऐसी खामियां हो सकती हैं, जिन्‍हें हम नजरअंदाज कर देते हैं.
News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 10:03 AM IST
अक्सर जब भी हम अपना सीवी बनाते हैं तो ये मानकर चलते हैं कि हमनें जो CV बनाया है वो बिल्‍कुल परफेक्‍ट है लेकिन अक्‍सर ऐसा नहीं होता है. उसमें कई ऐसी खामियां हो सकती हैं, जो होती तो बेहद बारीक हैं लेकिन हम उन पर ध्‍यान नहीं दे पाते हैं. ये हम नहीं कह रहे हैं बल्‍कि ये बात गूगल में सीनियर वाइस प्रेजींडेट की पोस्‍ट पर काम कर चुके और फिलहाल सॉफ्टेवयर कंपनी Humu, Inc में CEO की पोस्‍ट संभालने वाले लास्ज़्लो बॉक ने कही. उन्‍होंने बताया कि गूगल में 15 साल की जॉब के दौरान उन्‍होंने 20,000 से ज्‍यादा CV में उन्होंने इस तरह की गलतियां देखीं हैं. लास्ज़्लो बॉक ने बताया कि ज्यादातर सीवी में कौन सी पांच मिस्टेक उन्हें देखने को मिलती है. आइए डालते हैं उन पांच गलतियों पर एक नजर…

फार्मेट का रखें ध्यान
बॉक ने कहा कि अक्सर CV फार्मेट में नहीं होते हैं. इसलिए इसकी फार्मेटिंग का खासतौर पर ध्‍यान रखें. जैसे सीवी को हमेशा सफेद पेज पर ब्‍लैक हैंडराइटिंग में रखें. इसके अलावा नाम और मोबाइल नंबर सीवी के पहले पन्‍ने के साथ-साथ हर पेज पर मेंशन करें.



छोटा हो CV
बॉक का कहना है कि अक्‍सर लोग अपने बारे में सबकुछ बताने के लिए CV में सारी डिटेल भर देते हैं, जबकि ये ठीक नहीं है. सीवी जितना छोटा बनाएंगे वे उतना ही प्रभावशाली बनेगा. बस कोशिश करें अपने कि रिज्यूमे में जरूरी बातों को ऐड करना न भूलें.

आइडेंटी क्राइसिस का न हो शिकार
Loading...

बॉक बताते हैं कि अक्‍सर सीवी में अपना प्रभाव जमाने के लिए कुछ लोग ऐसे रेफ्रेंसेज का इस्तेमाल करते हैं, जो कि ठीक नहीं है. दरअसल जब भी आप CV में ऐसा कोई रिज्यूमे में रेफ्रेंसेज देते हैं तो कंपनी ये अंदाजा लगाताी है कि आप आइडेंटी क्राइसिस के शिकार है. इसलिए इस बात का ध्‍यान रखें कि कभी भी कंपनी में इस तरह के किसी भी शख्स का उल्‍लेख न करें.
कुछ भी झूठ न लिखें
बॉक ने बताया कि अक्सर उम्मीदवार अपने रिज्यूमे को और अच्छा बनाने की वजह से झूठ बोल देते हैं या फिर कुछ ऐसी बाते ऐड कर देते हैं जो असल में होती ही नहीं है. वे बताते हैं कि उन्होंने अपने करियर में देखा कि उम्ममीदवार अनुभव, कॉलेज, डिग्री से लेकर यहां तक कि सेल्स रिजल्ट तक में झूठ बोल देते हैं, ऐसा करना आपके करियर के लिए खतरनाक है. यहां तक कि किसी कंपनी का CEO भी फायर हो सकता है.

यह भी पढ़ें: 

Kolkata Police Recruitment 2019: 8वीं पास के लिए सरकारी नौकरी का सुनहरा मौका, पढ़ें डिटेल 

JVVNL Helper-2 result 2019: रिजल्‍ट घोषित, jvvnl.onlinereg.in पर चेक करें स्‍कोर
First published: August 1, 2019, 6:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...