UPSC EXAM 2019: मदरसा से स्नातक यह छात्र, जानें कैसे बना IAS

FILE PHOTO
FILE PHOTO

शाहिद दिल्ली के जेएनयू से अरबी साहित्य में स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद जेएनयू से ही इस्लामी अध्ययन में पीएचडी कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2019, 10:40 PM IST
  • Share this:
बिहार के एक मदरसे से स्नातक शाहिद रजा खान ने इस साल भारतीय सिविल सेवा की परीक्षा को पास किया है. आईएएस की परीक्षा में शाहिद ने अखिल भारतीय स्तर पर 751 रैंक हासिल किया है. शाहिद को उम्मीद है कि उसे इस रैंक में आईएएस एलाइड सर्विसेज में जाने का मौका मिलेगा और आईपीएस या फिर आईएफएस जैसी सेवा में नियुक्त हो सकता है.

गौरतलब है कि भारतीय प्रशासनिक नौकरशाही के प्रवेश द्वार कहे जाने वाले यूपीएससी जैसी प्रतिष्ठित परीक्षा में उच्च स्थान प्राप्त करने वाला शाहिद, मदरसा छात्रों की एक छोटी जमात का हिस्सा है. शाहिद अपनी इस सफलता के लिए मदरसे में बिताए गए समय को देता है.

यूपीएससी पास करने में काम आई मदरसे की सीख
खान का कहना है कि मदरसे ने उसे सिखाया कि किस तरह पढ़ी हुई चीजों को याद रखें और कैसे जीवन के विपरीत परिस्थितियों में शांत रहें. शाहित कहते हैं कि उन्हें मदरसे में कुरान की आयत और अन्य साहित्यों को याद कराया जाता था. जिसके कारण जब वह सिविल सेवाओं की तैयारी कर रहे थे, तो उन्हें पढ़ी हुई चीजें आसानी से याद हो जाती थीं.
सात साल से आईएएस परीक्षा की कर रहा था तैयारी


शाहिद की सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी 2011 से प्रारम्भ हुई, जब वह उत्तर प्रदेश से मदरसे की पढ़ाई पूरी करके दिल्ली आए. शाहिद दिल्ली के जेएनयू से अरबी साहित्य में स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई पूरी की. वर्तमान समय में वह जेएनयू से ही इस्लामी अध्ययन में पीएचडी कर रहे हैं. फिलहाल शाहिद ने फोन पर बताया है कि वे अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ इस समय अपनी सफलता का जश्न मना रहे हैं.

ये भी पढ़ें: UP Board Result 2019: इस बार की बोर्ड परीक्षा में जानें क्या था खास

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज