हैदराबाद के इन तीन स्टूडेंट्स ने बनाया कोविड-19 ट्रैकर, एक क्लिक में जानें किस जिले में कितने हैं मरीज

हैदराबाद के तीम छात्रों ने  एक लाइव ट्रैकर बनाया है जिसमें जिला-वार COVID-19 के मामलों को ट्रैक किया जा सकता है.
हैदराबाद के तीम छात्रों ने एक लाइव ट्रैकर बनाया है जिसमें जिला-वार COVID-19 के मामलों को ट्रैक किया जा सकता है.

हैदराबाद में तीन इंजीनियरिंग के छात्रों ने सराहनीय काम किया है. तीनों छात्रों ने एक ऐसा लाइव ट्रैकर बनाया है जिसमें जिला-वार COVID-19 के मामलों को ट्रैक किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 5:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. इस महामारी से बचने के लिए हर देश अपने स्तर पर प्रयास कर रहा है. भारत में भी इससे बचने के लिए पूरे देश को 21 दिन के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है. इस बीच हैदराबाद के कुछ इंजीनियरिंग के छात्रों ने सराहनीय काम किया है. तीनों छात्रों ने एक ऐसा लाइव ट्रैकर बनाया है जिसमें जिला-वार COVID-19 के मामलों को ट्रैक किया जा सकता है. लाइव ट्रैकर कोवइंडिया को महिंद्रा इकोल सेंट्रल इंजीनियरिंग कॉलेज हैदराबाद के तीन छात्रों ने बनाया है.

ऐसे काम कररता है लाइव ट्रैकर कोव इंडिया
लाइव ट्रैकर कोव इंडिया को महिंद्रा इकोल सेंट्रल इंजीनियरिंग कॉलेज हैदराबाद के तीन छात्रों ने बनाया है. अभी यह ट्रैकर वेबसाइट अधारित है जिसका एप भी बनाया जा रहा है. यह ट्रैकर, आधिकारिक वेबसाइट, स्वास्थ्य वेबसाइट और समाचार वेबसाइट से डेटा इक्कठा करता है. इसके बाद भारत के नक्शे पर जिस जिले में संक्रमण के पुष्टि हुई होती है उस जगह को चिन्हित करता है. इससे लोग उस क्षेत्र के बारे में जानते हैं जहां वायरस का सबसे ज्यादा खतरा है. ऐसे में लोग इसका इस्तेमाल कर अपने आप को सुरक्षित कर सकते हैं.

देश का पहला जिला-वार ट्रैकर है कोव-इंडिया
देश में कोरोना संक्रमण के कितने केस हैं और किस राज्य से हैं ये तो हमें पहले से बताया जा रहा है. लेकिन कोव-इंडिया के माध्यम से हम जिला-वार कोरोना का स्टेटस जान सकते हैं कि किसी जिले में कोरोना का संक्रमित पाया गया है. यह ट्रैकर भारत का पहला जिला-वार ट्रैकर है. जिसे इंजीनियरिंग के 3 छात्र राघव एनएस, अनंत श्रीकर और ऋषभ रामनाथन ने बनाया किया है.



ट्रैकर वास्तविक समय में आंकड़ो को अपडेट करता है
कोव- इंडिया ट्रैकर लाइव जिला-वार COVID-19 को अपडेट करता है, जिससे कोरोनावायरस के संक्रमण का पता लगाने में आसानी होती है. इसके साथ ही डाटा को सत्यापित करने के लिए छात्र उसे क्रॉसचेक करते हैं. इस ट्रैकर के माध्यम से लोगों को अपने जिले और आस-पड़ोस के लोगों के बारे में सटीक जानकारी मिल सकती है. इसके माध्यम से हम कोरोना के फैलाव को देख सकते हैं कि यह कैसे पूरे भारत में फैल रहा है.

ये भी पढ़ें- ICAI CA Exam 2020: आर्ट‍िकल ट्रेनिंग को लेकर सीए छात्रों के लिये हुई जरूरी घोषणा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज