JEE Main Exam 2019: ऑल इंडिया-1 रैंक पाने वाले दीपांशु ने दिए Tips, पहली बार में ऐसे क्रैक करें JEE Exam

दिल्‍ली के रहने वाले दीपांशु जिंदल (Deepanshu Jindal) ने बताया क‍ि अगर आपको JEE Main Exam 2019 पहली बार में क्रैक करना है तो उसके ल‍िये कुछ खास बातों का ध्‍यान रखना होगा.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 2:22 PM IST
JEE Main Exam 2019: ऑल इंडिया-1 रैंक पाने वाले दीपांशु ने दिए Tips, पहली बार में ऐसे क्रैक करें JEE Exam
JEE Main Exam 2019: ऑल इंडिया-1 रैंक पाने वाले दीपांशु ने दिया Tips, पहली बार में ऐसे क्रैक करें JEE Exam
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 2:22 PM IST
JEE मेन की परीक्षा (JEE Main Exam 2019) देश की सबसे प्रतिष्‍ठित और मुश्‍किल परीक्षाओं में एक हैं. हर साल लाखों की संख्‍या स्‍टूडेंट्स इस एग्‍जाम में बैठते हैं और चुनिंदा लोगों को ही इसमें कामयाबी मिल पाती है. हाल ही में ऑस्‍ट्रेलिया के प्रोफेसर ने इस परीक्षा को ना केवल बेहद कठ‍ि‍न करार दिया था, बल्‍क‍ि इसे एक घंटे में हल कर पाना नामुमिकन बताया था. हर साल आयोजित होने वाली इस परीक्षा को सैकड़ों उम्‍मीदवार क्रैक करते हैं. इसमें से एक हैं दीपांशु जिंदल (Deepanshu Jindal), जिन्‍होंने JEE Main Exam 2016 में ऑल इंंड‍िया पहला रैंक हासिल की है. दिल्‍ली के रहने वाले दीपांशु जिंदल (Deepanshu Jindal) ने बताया क‍ि अगर आपको JEE Main Exam 2019 पहली बार में क्रैक करना है तो उसके ल‍िये कुछ खास बातों का ध्‍यान रखना होगा.

मेरे साथ परिवार ने भी की कड़ी मेहनत 
अपनी इस कामयाबी के बारे में बात करते हुए कहते हैं कि दीपांंशु (Deepanshu Jindal) ने कहा कि कि मेरे साथ-साथ पूरे परिवार ने भी खूब मेहनत की. मेरी बहन सिर्फ इसलिए कभी टीवी नहीं देखती थी कि कहीं मैं डिस्‍टर्ब न हो जाऊं. मेरे घर में टीवी नहीं खुलता था. ‘बेटर इंडिया’ से बात करते हुए दीपांशु कहते हैं कि अगर मैं अपने पढ़ाई के शेड्यूल के बारे में बात  करूंं तो  मैं स्‍कूल में हमेशा रेग्‍लयूर रहा.  क्‍लासेज कभी भी बंक नहीं की. इसके बाद लगभग चार घंटे कोचिंग क्‍लासेज में बिताता था. घर पर कुछ देर आराम करने के बाद फिर मैं स्‍कूल और कोचिंग में पढ़ाई गई चीजों को रिवाइज करता था.



ऐसे की तैयारी (JEE Main Exam 2019 preparation tips)
दीपांशु बताते हैं कि एग्‍जाम (JEE Main Exam 2019) की तैयारी के दौरान मैंने कोशिश की क‍ि मैं सभी विषय की गहराई तक समझ सकूं. मैं किसी खास तरह के प्रश्‍नों पर फोकस्‍ड नहीं रहता था, बल्‍कि मेरी कोशिश रहती थी कि मैं हर तरह के सवालों को समझूं. साथ ही मैं ज्‍यादा से मॉक टेस्‍ट सॉल्‍व करता था. फरवरी के आस-पास, मैंने अपनी तैयारी की रणनीति में थोड़ा बदलाव किया. इसके मुताबिक मैंने पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करने में अधिक समय बिताना शुरू कर दिया. इससे मुझे बहुत जानकारी मिली. साथ ही मुझे बहुत कॉन्‍फिडेंस मिला.


Loading...

सेल्फ स्‍टडी से मिलता है फायदा
दीपांशु का कहना है कि सेल्फ स्टडी के बिना सफलता पाना मुश्‍किल होता है, क्‍योंकि चाहें आप कितनी भी कोचिंग कर लें उससे तब कोई लाभ नहीं मिलेगा जब तक कि आप खुद की पढ़ाई के लिए वक्त नहीं निकालते हैं तो इसलिए जरूरी है कि आप सेल्फ स्‍टडी पर ध्‍यान दें.

ये भी पढ़ें : 

NIOS ने पकड़े कई शिक्षकों के फर्जी D.El.Ed सर्टिफिकेट

अब महिलाओं को 5 मिनट में दौड़ना होगा 1 किमी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 2:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...