सोशल मीडिया पर ट्रोल हुईं यूपीएससी टॉपर इरा सिंघल, दिया ऐसा जवाब

यूपीएससी टॉपर इरा सिंघल को सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग का शिकार होना पड़ा. एक शख्‍स ने इंस्‍ट्राग्राम पर उनसे कुछ अपशब्‍दों का इस्‍तेमाल किया.

News18Hindi
Updated: July 15, 2019, 12:06 PM IST
सोशल मीडिया पर ट्रोल हुईं यूपीएससी टॉपर इरा सिंघल, दिया ऐसा जवाब
शारीरिक रूप से दिव्‍यांग होने के बावजूद UPSC की जनरल कैटगरी में 815 रैंक पाने वाली देश की पहली प्रतिभागी हैं.
News18Hindi
Updated: July 15, 2019, 12:06 PM IST
यूपीएससी टॉपर इरा सिंघल को सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग का शिकार होना पड़ा. एक शख्‍स ने इंस्‍ट्राग्राम पर उनके खिलाफ कुछ अपशब्‍दों का इस्‍तेमाल किया. इरा ने खुद सोशल मीडिया के जरिये यह जानकारी दी.

इरा ने फेसबुक पर ट्रोलर की प्रोफाइल का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा, 'कुछ लोगों का सोचना है कि दिव्यांग लोगों को कुछ भी सामना नहीं करना पड़ता है, क्योंकि दुनिया अच्छी और दयालु है तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. सच्चाई दिखाने के लिए मैं अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से किसी की टिप्पणियों को साझा कर रही हूं . ये साइबर बुलिंग का चेहरा है.

इरा UPSC सिविल सर्विस एग्‍जाम 2014 की टॉपर हैं
इरा UPSC सिविल सर्विस एग्‍जाम 2014 की टॉपर हैं


उन्होंने आगे लिखा, दुर्भाग्य से जिसे तंग नहीं किया जा सकता है उसे तंग करने का प्रयास किया जा रहा है. यह व्यक्ति सिविल सर्वेंट बनना चाहता है. यही कारण है कि हमें ऐसे स्कूलों और शिक्षा प्रणाली की आवश्यकता है, जो किसी भी चीज से ज्यादा एक बेहतरीन इंसान बनाने में ध्यान दें.'

गौरतलब है कि इरा UPSC सिविल सर्विस एग्‍जाम 2014 की टॉपर हैं. शारीरिक रूप से दिव्‍यांग होने के बावजूद UPSC की जनरल कैटगरी में 815 रैंक पाने वाली देश की पहली प्रतिभागी हैं. इरा मेरठ के सोफिया गर्ल्स स्कूल से लेकर दिल्ली के लोरेटो कॉन्वेंट स्कूल में अव्वल रहीं. वह दिल्ली में धौलाकुआं के आर्मी पब्लिक स्कूल में भी पढ़ीं. नेताजी सुभाष इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से कंप्यूटर इंजीनियरिंग की और यहां पर पहले नंबर पर बनी रहीं. फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से एमबीए किया था.

इसके बाद उन्‍होंने UPSC Exam की तैयारी की और परीक्षा में सफलता हासिल की. हालांकि शारीरिक रूप से विकलांग होने की वजह से उन्‍हें पोस्टिंग नहीं दी गई. उन्‍होंने हार नहीं मानी और सेंट्रल एडमिनिस्‍ट्रेटिव ट्रिब्‍यूनल में केस दायर किया. साल  2014 में केस जीतने के बाद उन्‍हें हैदराबाद में पोस्टिंग मिली. इस बीच उन्‍होंने अपनी रैंक सुधारने के लिए कोशिशें जारी रखीं. आखिरकार अपने चौथे प्रयास में उन्‍होंने सिविल सर्विस एग्‍जाम की जनरल कैटेगरी में टॉप किया था.

यह भी पढ़ें: फेल होने पर करा दी जाती शादी, क्लीयर किया IAS एग्‍जाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 15, 2019, 11:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...