बड़ी बात : लॉकडाउन के दौरान फीस बढ़ाने वाले निजी स्कूलों को दिया गया नोटिस, होगी कार्रवाई

कोरोना वायरस के चलते लागू किए गए लॉकडाउन का लोगों पर गहरा आर्थिक असर पड़ा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
कोरोना वायरस के चलते लागू किए गए लॉकडाउन का लोगों पर गहरा आर्थिक असर पड़ा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देशभर में लागू किया गया था लॉकडाउन (Lockdown). इस दौरान स्कूल फीस (School Fees) नहीं बढ़ाने के निर्देश जारी किए गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 24, 2020, 12:22 PM IST
  • Share this:
अगरतला. कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से देशभर में 24 मार्च को लॉकडाउन (Lockdown) का ऐलान किया गया था. हालांकि इससे पहले ही 16 मार्च को स्कूल और कॉलेज (School-College) समेत देश के सभी शिक्षण संस्थान बंद कर दिए गए थे. लॉकडाउन के दौरान लोगों की आर्थिक स्थिति पर गहरा असर पड़ा, जिसके चलते स्कूल फीस (School Fees) न बढ़ाने या माफ करने को लेकर मांग ने भी जोर पकड़ा. इसे देखते हुए त्रिपुरा सरकार (Tripura Government) ने स्कूलों को फीस न बढ़ाने को लेकर निर्देश भी दिए. बावजूद इसके कई स्कूलों ने फीस बढ़ा दी और अब ऐसे ही स्कूलों को त्रिपुरा सरकार ने नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

343 स्कूलों को दिए गए थे निर्देश
दरअसल, एजुकेशन डिपार्टमेंट, स्टेट मिनिस्टर रतन लाल नाथ ने 6 मई को सभी 343 प्राइवेट और गैरसहायता प्राप्त स्कूलों को लॉकडाउन (Lockdown) की अवधि में फीस (School Fees) न बढ़ाने के निर्देश दिए थे. निर्देश का पालन न करने वाले 11 स्कूलों को अब नोटिस जारी किया गया है. इस बारे में रतन लाल नाथ ने कहा, हमें शिकायत मिली थी कि हमारे निर्देशों के बावजूद कुछ स्कूलों ने फीस बढ़ा दी है. हमने ऐसे 11 स्कूलों को नोटिस जारी किया है. स्कूलों का फीस बढ़ाने का कदम किसी भी हालत में स्वीकार्य नहीं है.

ये भी पढ़ें
टॉपर्स के नाम तक नहीं पढ़ सके शिक्षा मंत्री,प्रज्ञा को प्रयाग,तनु को कहा तांदू


SBI में निकली है बंपर वैकेंसी, जानें योग्यता और सेलेक्शन प्रोसेस

आदेश न मानने वाले स्कूलों पर होगी कार्रवाई
ऐसा नहीं है कि स्कूल फीस (School Fees) न बढ़ाने को लेकर सिर्फ 6 मई को ही मीटिंग हुई थी, बल्कि 14 मई को भी 343 स्कूलों और राज्य के शिक्षा विभाग के अधिकारियों के बीच इस मसले पर बातचीत हुई थी. रतन लाल नाथ के अनुसार, शिक्षा विभाग, मेरे और स्टूडेंट्स के गार्जियंस के आग्रह के बावजूद स्कूलों ने फीस बढ़ा दी. जिन स्कूलों ने सरकारी आदेश की अवहेलना की है, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि त्रिपुरा के आठ जिलों में 343 निजी और गैर सहायता प्राप्त स्कूल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज