UGC पैनल ने एक बार फिर की ‘चार वर्षीय स्नातक कार्यक्रम’ की वकालत

UGC पैनल ने एक बार फिर की ‘चार वर्षीय स्नातक कार्यक्रम’ की वकालत
दिल्ली यूनिवर्सिटी में four year undergraduate program रद्द हुए पांच साल हो गए.

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को हाल ही में दी अपनी रिपोर्ट में तीन वर्षीय स्नातक कार्यक्रम को चार वर्ष में बदलने का सुझाव दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2019, 12:48 PM IST
  • Share this:
four year undergraduate program: विवादास्पद ‘चार वर्षीय स्नातक कार्यक्रम’ (four year undergraduate program/FYUP) को रद्द किए जाने के पांच साल बाद फिर चर्चा में है. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) समिति ने कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में बेहतर अनुसंधान के लिए चार साल के स्नातक कार्यक्रम को शुरू किए जाने का सुझाव दिया है.

चार सदस्यीय समिति ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को हाल ही में दी अपनी रिपोर्ट में तीन वर्षीय स्नातक कार्यक्रम को चार वर्ष में बदलने का सुझाव दिया है. साथ ही नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) पर काम करने वाले एचआरडी मंत्रालय के पैनल ने भी स्नातक पाठ्यक्रमों में सुधार के लिए कार्यक्रम की सिफारिश की है.

भारतीय विज्ञान संस्थान (बेंगलुरु) के पूर्व निदेशक प्रोफेसर पी. बालाराम ने इस समिति की अध्यक्षता की.



रिपोर्ट में कहा गया, मजबूत अनुसंधान के साथ चार साल के स्नातक कार्यक्रम की पेशकश करने वाले विश्वविद्यालयों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए ताकि डॉक्टरेट कार्यक्रम के लिए अच्छे छात्र मिल सकें.



गौरतलब है कि पूर्व कुलपति दिनेश सिंह के कार्यकाल के दौरान दिल्ली विश्वविद्यालय ने ‘चार वर्षीय स्नातक कार्यक्रम’ (एफवाययूपी) पेश किया गया था, जिसे पूर्व मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने खारिज कर दिया था.

ये भी पढ़ें-
अटेंडेंस को लेकर सीबीएसई ने बनाया नया नियम, ज़रूर चेक करें स्टूडेंट्स
ITI Limited: असिस्टेंड सिक्योरिटी ऑफिसर, गार्ड के लिए नौकरी
CBSE का स्कूलों को निर्देश, 15 अगस्त तक पूरा करें 9th, 11th के दाखिले का प्रोसेस
IAS Success Story: इंजीनियरिंग के दो पेपर में फेल हुए हिमांशु ने पहली बार में क्लियर किया IAS एग्जाम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading