UGC ने बंबई HC से कहा, राज्य को परीक्षा रद्द करने का कोई अधिकार नहीं

UGC ने बंबई HC से कहा, राज्य को परीक्षा रद्द करने का कोई अधिकार नहीं
यूजीसी ने ये फैसला वर्तमान कोविड-19 की परिस्थिति को देखते हुए किया था.

अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द करने का महाराष्ट्र सरकार का फैसला सीधे तौर पर देश में उच्च शिक्षा के मानकों को प्रभावित करेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने बंबई उच्च न्यायालय में कहा, महाराष्ट्र सरकार को कोविड-19 महामारी के बीच अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द करने का कोई अधिकार नहीं है.

सेवानिवृत्त शिक्षक और पुणे से विश्वविद्यालय सीनेट के पूर्व सदस्य धनंजय कुलकर्णी की याचिका के जवाब में हलफनामा दाखिल किया गया. याचिका में परीक्षाएं रद्द करने के महाराष्ट्र सरकार के फैसले को चुनौती दी गयी है.





पिछले महीने की थी परीक्षाएं रद्द
राज्य सरकार ने पिछले महीने अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द कर दी थीं और कहा था कि उसे महामारी अधिनियम तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत ऐसा करने का अधिकार है.

लेकिन यूजीसी ने दलील दी थी कि इन कानूनों को विश्वविद्यालय अनुदान आयुक्त अधिनियम जैसे विशेष कानून के वैधानिक प्रावधानों को निष्प्रभावी करने के लिए लागू नहीं किया जा सकता.

आयोग ने क्या कहा
आयोग ने कहा कि राज्य सरकार का फैसला यूजीसी के 29 अप्रैल और छह जुलाई, 2020 को जारी दिशानिर्देशों के उलट है, जिसमें सभी विश्वविद्यालयों और संस्थानों से सितंबर 2020 के अंत तक परीक्षाएं करने को कहा गया था.

यूजीसी ने क्या कहा
यूजीसी ने हलफनामे में कहा कि अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द करने या बिना परीक्षाओं के छात्रों को डिग्री प्रदान करने का महाराष्ट्र सरकार का फैसला सीधे तौर पर देश में उच्च शिक्षा के मानकों को प्रभावित करेगा.

ये भी पढ़ें-
MHRD ने बनाई समिति, देश में रहकर छात्रों के पढ़ाई करने पर देगी सुझाव
COMEDK UGET Exam 2020 फिर से स्थगित, अब 19 अगस्त को दो शिफ्ट्स में होगा आयोजित

इसमें कहा गया कि परीक्षाओं के मानकों के नियमन के लिहाज से यूजीसी सर्वोच्च इकाई है. मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्त की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने मामले में अगली सुनवाई के लिए 31 जुलाई की तारीख तय की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading