केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन पर युवाओं, संस्थाओं, शिक्षाविदों से मांगा सुझाव

निशंक ने ये सुझाव वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा.
निशंक ने ये सुझाव वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा.

पोखरियाल ने कहा, इस नीति को जमीनी स्तर तक पहुंचाने के लिए जागरूकता अभियान एवं शिक्षा-संवाद की शुरुआत करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2020, 7:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शुक्रवार को नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति को देश की नीति बताते हुए इसके क्रियान्वयन (implementation) के लिये युवाओं, संस्थाओं, स्वयं सेवकों, शिक्षाविदों सहित सभी लोगों से सुझाव देने को कहा.

‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 : शिक्षा का उज्ज्वल भविष्य’
‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 : शिक्षा का उज्ज्वल भविष्य’ विषय पर आयोजित वेबिनार को संबोधित करते हुए निशंक ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सफलता हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है. यह एक टीम के रूप में काम करने का विषय है. एक साथ मिलकर ही हम सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं.

जागरुकता अभियान एवं शिक्षा-संवाद की शुरुआत करें
उन्होंने कहा, राष्ट्रीय शिक्षा के क्रियान्वयन के संदर्भ में मैं देश के युवाओं, संस्थाओं, स्वयं सेवकों तथा शिक्षाविदों से आग्रह करता हूं कि वे बिना किसी संकोच एवं पूर्वाग्रह के अपने सुझाव दें तथा इस नीति को जमीनी स्तर तक पहुंचाने के लिए जागरुकता अभियान एवं शिक्षा-संवाद की शुरुआत करें.



राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश की नीति है
निशंक ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश की नीति है,जिसमें सब का हित निहित है. जिस प्रकार का विस्तृत विमर्श, मंथन एवं चिंतन नीति के प्रथम चरण में हमें मिला, वह आशान्वित हैं कि उसी समावेशी सोच के साथ क्रियान्वयन में भी हमें 'सबका साथ, सबका विश्वास' मिलेगा.

शिक्षा की आधारशिला को मजबूती प्रदान करें
उन्होंने कहा कि नयी शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा से लेकर उच्चतर शिक्षा तक व्यापक सुधारों की रूपरेखा प्रस्तुत की गई है. फोकस इसी बात पर है कि शिक्षा की आधारशिला को मजबूती प्रदान कर ‍सशक्त राष्ट्र का निर्माण किया जाए.

ये भी पढ़ें-
Sarkari Naukri: ओडिशा कर्मचारी चयन आयोग में जूनियर स्टेनोग्राफर की वैकेंसी, आज लास्ट डेट
30 लाख स्टूडेंट्स के लिए बड़ी खबर, CBSE बोर्ड की एग्जाम फीस माफ करने वाली याचिका दिल्ली HC ने की स्वीकार

यह नीति क्षमता निर्माण पर ध्यान केन्द्रित करती है
केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह नीति क्षमता निर्माण पर ध्यान केन्द्रित करती है. चाहे छात्रों का क्षमता निर्माण हो या फिर शिक्षकों और संस्थानों की. उन्होंने कहा, क्षमता निर्माण से राष्ट्र निर्माण का फार्मूला ही हमें सशक्त बनाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज