मुंबई विश्वविद्यालय सिंधुदुर्ग डिस्ट्रिक्ट में स्थापित करेगा अपना सब-सेंटर

मुंबई विश्वविद्यालय सिंधुदुर्ग डिस्ट्रिक्ट में स्थापित करेगा अपना सब-सेंटर
देश के विश्वविद्यालयों की रैंकिंग में मुंबई विश्वविद्यालय ने 65वां स्थान हासिल किया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इसके पीछे की कोशिश विश्वविद्यालय की रैंकिंग में और अधिक सुधार लाना है. विश्वविद्यालय ने देश के विश्वविद्यालयों की रैंकिंग में 65वां स्थान हासिल कर अपनी रैंकिंग में सुधार किया है.’

  • Share this:
नई दिल्ली. मुंबई विश्वविद्यालय जल्द ही राज्य में कोंकण क्षेत्र के सिंधुदुर्ग जिले में अपना एक सब-सेंटर स्थापित करेगा. विश्वविद्यालय के कुलपति सुहास पेडनेकर ने शुक्रवार को ठाणे के एक कॉलेज द्वारा आयोजित एक वेब सेमिनार में यह कहा.

अध्ययन को बढ़ावा देने के लिए
उन्होंने कहा, ‘‘हम सिंधुदुर्ग जिले में विश्वविद्यालय का एक उप-केंद्र स्थापित करने जा रहे हैं, ताकि वहां शोध और अध्ययन को बढ़ावा दिया जा सके.’’ महाराष्ट्र में 720 किलोमीटर लंबा समुद्र तट है, जिसका उपयोग समुद्री जीवन और मत्स्य पालन जैसे विषयों पर शोध के लिए किया जा सकता है.


शोध के लिए


उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए, मुंबई विश्वविद्यालय ने पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय के साथ एक समझौता किया है, जिसने समुद्री क्षेत्र में बहुत शोध किया है. शोध को बढ़ावा देने के लिए, सिंधु स्वाध्याय संस्था भी बनाई गई है.’’

पेडनेकर ने कहा कि मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) की मदद से कलिना में विश्वविद्यालय के वर्तमान परिसर में आधुनिक सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं, जहां एक खेल परिसर बनाने की भी योजना है.

उन्होंने कहा कि उनका प्रयास विश्वविद्यालय की रैंकिंग में और अधिक सुधार लाना है. उन्होंने कहा, ‘‘विश्वविद्यालय ने 65वां स्थान (देश के विश्वविद्यालयों की रैंकिंग में) हासिल कर अपनी रैंकिंग में सुधार किया है.’’

ये भी पढ़ें-
EWS वर्ग का आय प्रमाण पत्र केंद्रीय नौकरियों, शैक्षिक संस्थानों में होगा मान्य
यूजीसी के फाइनल ईयर एग्जाम रूल के खिलाफ 31 छात्र पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

मुंबई विश्वविद्यालय के सब-सेंटर खोलने के अलावा एजुकेशन सिलसिले में फिलहाल महाराष्ट्र से बड़ी खबर ये है कि महाराष्ट्र विश्वविद्यालय स्वास्थ्य विज्ञान द्वारा एमबीबीएस को छोड़कर, हेल्थ साइंस में स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए सभी फाइनल ईयर की परीक्षाएं स्थगित कर दी गईं. ये फैसला राज्य चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख के निर्देश के बाद लिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज