8वीं में फेल होने के बाद नहीं हुए निराश! जिद ने बनाया करोड़ों की कंपनी का मालिक

त्रिशनित की 8वीं में फेल होने से लेकर खुद की एक कंपनी खड़ी करने तक का सफर बेहद रोचक है.  UP BOARD RESULT 2019
त्रिशनित की 8वीं में फेल होने से लेकर खुद की एक कंपनी खड़ी करने तक का सफर बेहद रोचक है. UP BOARD RESULT 2019

त्रिशनित की 8वीं में फेल होने से लेकर खुद की एक कंपनी खड़ी करने तक का सफर बेहद रोचक है. UP BOARD RESULT 2019

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2019, 11:00 AM IST
  • Share this:
अगर स्कूल में पढ़ाई के दौरान अच्छे नंबर न आएं या फिर फेल हो जाएं तो परेशान होने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं. क्योंकि कुछ करने की चाह आपको सफलता पाने से नहीं रोक सकती. कुछ ऐसा ही त्रिशनित अरोड़ा ने करके दिखाया. कंप्यूटर में गहरी दिलचस्पी होने की वजह से वह पढ़ाई के दौरान एग्जाम में फेल भी हो गए. इस पर घर वालों ने नराज़गी जताई. लेकिन उनकी जिद कुछ अलग करने की थी. इसी ने उन्हें सिर्फ 22 साल की उम्र में करोड़ों की कंपनी का मालिक बना दिया.

 

 



 
त्रिशनित अरोड़ा TAC Security नाम की एक कंपनी के सीईओ हैं. 8वीं में फेल होने से लेकर खुद की एक कंपनी खड़ी करने की त्रिशनित की ये कहानी काफी रोचक है. त्रिशनित अरोड़ा ने सोशल मीडिया पेज Humans of Bombay पर अपनी कहानी बयां की है. (ये भी पढ़ें-कॉलेज तक भी नहीं की पढ़ाई, आज हैं 35 हजार करोड़ की कंपनी के मालिक)

उन्होंने लिखा है कि वह कंप्यूटर पर वीडियो गेम दिनभर खेलते रहते थे. त्रिशनित ने बताया कि उन्हें हमेशा से कंप्यूटर का शौक था. हिस्ट्री और जियोग्राफी उन्हें समझ नहीं आती थी लेकिन कंप्यूटर को वो अच्छे से समझते थे. जब उनके घर पहला कंप्यूटर आया तो वो उसपर दिन रात गेम खेलने लगे.

उनका ऐसा करने से मां-बाप खुश नहीं थे इसलिए कंप्यूटर पर पासवर्ड लगा दिया. लेकिन त्रिशनित ने पासवर्ड भी क्रैक कर लिया. इसके बाद उनके पिता ने उन्हें डांटा नहीं, बल्कि एक और कंप्यूटर लाकर दे दिया. अब तो त्रिशनित का सारा वक्त कंप्यूटर पर ही बीतने लगा. (ये भी पढ़ें-LIC के पास तो नहीं पड़े आपके पैसे! घर बैठें ऐसे करें पता)



फेल होने के बाद क्या किया-उन्होंने आगे लिखा है कि फेल होने पर मां-बाप ने दिनभर कंप्यूटर पर लगे रहने के कारण त्रिशनित 8वीं में फेल हो गए. जब माता-पिता को ये पता चला तो उन्होंने त्रिशनित को न मारा न डांटा, बल्कि बड़े ही आराम से पूछा कि वो करना क्या चाहते हों.

>> त्रिशनित ने फिर अपने माता-पिता को दिल का राज बताया. उन्होंने कहा कि वो कंप्यूटर्स पढ़ना चाहते हैं. उन्होंने स्कूल छोड़ने का फैसला लिया जिसमें माता-पिता ने पूरा सहयोग दिया. त्रिशनित 19 साल में ही कंप्यूटर में एक्सपर्ट हो गए. वो काम भी करने लगे और उन्हें उनका पहला पे चेक 60 हजार रुपये का मिला.

 (ये भी पढ़ें-अक्षय तृतीया से पहले सरकार बदल सकती है सोने की ज्वैलरी खरीदने से जुड़ा ये नियम!)

क्या करते हैं त्रिशनित अरोड़ा
>> बड़ी-बड़ी कंपनियों के मालिक त्रिशनित खुद को एथिकल हैकर कहते हैं.
>> इसके बाद त्रिशनित ने जितना भी काम किया वो सभी पैसे अपनी कंपनी खड़ी करने में लगा दिया.
>> उन्होंने टेक सिक्योरिटी नाम की कंपनी खड़ी की जिसके आज बड़े-बड़े कस्टमर्स हैं.
>> त्रिशनित पंजाब प्रदेश और क्राइम ब्रांच के आईटी एडवाइजर हैं.
>> त्रिशनित हैकिंग पर 'हैकिंग टॉक विद त्रिशनित अरोड़ा', 'दि हैकिंग एरा' कई किताबें भी लिख चुके हैं.
>> भारत में 4 और दुबई में उनका एक ऑफिस है.
>> त्रिशनित को अपनी उपलब्धि के लिए कई ईनाम भी मिल चुके हैं.
>> बड़ी-बड़ी शख्सितों के साथ उनकी तस्वीरें आती रहती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज