UP Board Result 2019: फेल हुए बच्चे ने उठा लिया है गलत कदम तो क्या करें

कई बार फेल हुए बच्चे करियर के दबाव, मां-बाप की डांट और पियर प्रेशर के चलते कई गलत कदम उठा लेते हैं.

News18Hindi
Updated: April 27, 2019, 10:44 PM IST
UP Board Result 2019: फेल हुए बच्चे ने उठा लिया है गलत कदम तो क्या करें
प्रतीकात्मक फोटो
News18Hindi
Updated: April 27, 2019, 10:44 PM IST
UP Board Result 2019 का 12वीं और 10वीं का रिज़ल्ट काफी बढ़िया माना जा रहा है लेकिन इसका एक स्याह पक्ष भी है. इन परीक्षाओं में भी 12वीं के 29.94% जबकि हाईस्कूल के 19.93% बच्चे फेल हो गए हैं. कई बार फेल हुए बच्चे करियर के दबाव, मां-बाप की डांट और पियर प्रेशर के चलते कई गलत कदम उठा लेते हैं. आप ऐसे किसी शख्स के मां-बाप, भाई-बहन या दोस्त हैं तो सबसे पहले आपको ये काम करने चाहिए.

क्या करें:


यूपी बोर्ड रिजल्ट 2019

यूपी बोर्ड रिजल्ट 2019


- अक्सर बच्चे ऐसे मौकों पर घर में मौजूद जहरीली दवाओं, फिनाइल और साइनाइड जैसी चीज़ों का इस्तेमाल करते हैं.
- अगर बच्चे ने दवाइयां खाई है तो उसे तुरंत ही उल्टी कराएं और अगर वह बेहोश हो गया है तो उल्टी जबरदस्ती न करवाएं. ऐसे समय पर उसे दूध, ठंडा पानी दे सकते हैं.जल्द ही डॉक्टर के पास ले जाएं.

- अगर उसे सांस लेने में कठिनाई हो रही है तो उसे कृत्रिम (CPR) सांस दें.
- अगर फिनाइल जैसा कोई जहरीला तरल पदार्थ पी लिया है उसे उलटी करने की कोशिश करें. उसे नमक पानी का घोल बनाकर पिलाएं वह उल्टी कर देगा उसके गर्दन के पीछे हल्के-हल्के थपथपाएं या उसके तालू पर उंगलियां ले जा कर के उसे उल्टी करवाएं हो सके तो उस उल्टी का सैंपल भी अपने साथ रख लें ताकि आगे चलकर टेस्ट में वो काम आए.

न्‍यूज 18 हिंदी पर रिजल्‍ट चेक करने के लिए यहां क्‍लिक करें. 
Loading...

- अंडे की जर्दी पानी में मिलाकर या फिर उसे दूध उसे पिला सकते हैं.
- हल्के जहरीले पदार्थों में शैंपू, क्लीनर, डिटाल आदि सामान आते हैं जिनमें बहुत ज्यादा जहर तो नहीं होता है वैसे नॉर्मली इसमें मरीज उल्टी कर देता है लेकिन अगर फिर भी वो नहीं कर रहा है तो उसे उल्टी कराएं और फिर उसके बाद उसे दूध पिला सकते हैं.
- ज्यादा जहरीले पदार्थों की जिसमें कीटनाशक रसायन आते हैं जैसे फॉलीडाल, फास्फोरस , पैराक्वाट आदि इनका सेवन कर लेने वाले व्यक्ति को अति शीघ्र डॉक्टर के पास ले जाएं यह अत्यधिक जहरीले होते हैं इनमें इनके लक्षण में मरीज का शरीर नीला पड़ने लगता है और होंठ भी सूखने लगते हैं. बच्चे को सोने ना दें.
- मिट्टी का तेल , डीजल, तारपीन का तेल, पेट्रोल आदि पीने पर बच्चे को उल्टी ना करवाएं क्योंकि यह फेफड़ों में जाकर नुकसानदायक साबित हो सकता है.

काउंसलर की मदद लें
ख़राब रिज़ल्ट्स के चलते अक्सर बच्चे डिप्रेशन में चले जाते हैं और इस तरह के कदम उठा लेते हैं. ऐसे में काउंसलर की मदद लें और उसका ज्यादा से ज्यादा ख्याल रखें.

इंडिया हेल्पलाइन

1. India: International Bipolar Foundation +91-8888817666
2. Fortis Stress Helpline : +918376804102
3. AASRA 022-27546669 or 27546667
4. Lifeline Foundation ( Kolkata ) : 033-2474 4704 /033-24745886 /033-24745255
5. Roshni Foundation ( Secundrabad ) 040-66202001 , 040-66202000 ( 11am to 9pm everyday)
6. COOJ Mental Health Foundation : 098322252525 ( 3pm to 7pm on Weekdays )
7. Sanjeevani : 011-24311918 , 011-24318883 ( 10am to 5.30 pm : monday to friday )
8. Sumaitri : 011-23389090 ( 2pm to 10 pm )

ये भी पढ़ें:

12th में नंबर कम आने पर DU में एडमिशन न मिले तो इन यूनिवर्सिटी में करें ट्राई

UP Board Result 2019: जब यूपी के 150 स्कूलों में सभी छात्र हुए थे फेल

करियर और जॉब्स से संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नौकरियां/करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 27, 2019, 10:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर