अपना शहर चुनें

States

साइंस स्‍ट्रीम से 12th करने के बाद करियर के लिए कौन-कौन से ऑप्शनस हैं?

क्या हैं करियर ऑप्शन्स
क्या हैं करियर ऑप्शन्स

दसवीं के बाद जब छात्र मैथ्स-साइंस सबजेक्ट चुनता है तो उस पर पहले ही दिन से JEE और IIT पास करने का एक दबाव सा बन जाता है, लेकिन हम ये बताना चाहते हैं कि साइंस स्ट्रीम में इंजीनियरिंग के अलावा भी करियर की बहुत संभावनाएं हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2019, 1:02 PM IST
  • Share this:
साल 2019 के बोर्ड रिजल्ट आने शुरू हो गए हैं. बिहार, तेलंगाना, तमिलनाडू और आंध्र प्रदेश बोर्ड के रिजल्ट आ चुके हैं. यूपी, सीबीएसई, राज्सथान, एमपी, हिमाचल प्रदेश इत्यादि बोर्ड के रिजल्ट आने बाकी हैं. बोर्ड रिजल्ट के बाद सभी स्टूडेंट एक नई राह पकड़ते हैं. 10 वीं के बाद कोई एक स्ट्रीम से पढ़ाई करना चुनते हैं तो 12वीं के बाद चुनी जा चुकी स्ट्रीम में आगे पढ़ाई कर, नौकरी के ऑप्शन्स ढूंढना शुरू करते हैं. ऐसे में इस स्टोरी के ज़रिए हम आपको बता रहे हैं साइंस स्‍ट्रीम से 12वीं करने के बाद करियर के लिए कौन-कौन से ऑप्शनस हैं. जानिए.

दसवीं के बाद जब छात्र मैथ्स-साइंस सबजेक्ट चुनता है तो उस पर पहले ही दिन से JEE और IIT पास करने का एक दबाव सा बन जाता है. 12 वीं के बाद अगर छात्र अच्छी तैयारी के बावजूद किसी वजह से इंजीनियरिंग में सेलेक्ट नहीं हो पाता है तो उसके सामने करियर को लेकर सवाल खड़े होने लगते हैं. लेकिन हम ये बताना चाहते हैं कि साइंस स्ट्रीम में इंजीनियरिंग के अलावा भी करियर की बहुत संभावनाएं हैं.

एस्ट्रो-फिजिक्स- ब्रह्मांड, आकाशगंगा और सितारों की दुनिया में दिलचस्पी रखने वाले छात्र फिज़िकल साइंस में बैचलर्स और मास्टर्स में रिसर्च ओरिएंटेड प्रोग्राम कर सकते हैं. इसके बाद एस्ट्रोफिजिक्स में पीएचडी करने के बाद  भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO जैसे रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन में साइंटिस्ट बनने का मौका मिल सकता है.



स्पेस साइंस- इसके तहत कॉस्मोलॉजी, स्टेलर साइंस, प्लैनेटरी साइंस, एस्ट्रोनॉमी जैसे कई फील्ड्स हैं जिसमें बीएससी और बीटेक के बाद पीएचडी भी की जा सकती है.
नैनो-टेक्नोलॉजी: 12वीं के बाद नैनो टेक्‍नोलॉजी में बीएससी या बीटेक और फिर एमएससी या एमटेक करके शानदार करियर बनाया जा सकता है. इंडस्ट्री में हर साल प्रोफेशनल्स की डिमांड तेजी से बढ़ रही है.

एनवायर्नमेंटल साइंस: इस स्ट्रीम के तहत पढ़े जाने वाले सबजेक्ट्स की एनजीओ और UNO में काफी डिमांड रहती है. इकोलॉजी, डिजास्टर मैनेजमेंट, वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट, पॉल्यूशन कंट्रोल जैसे विषयों का दायरा काफी बड़ा है और इनमें नौकरियों की प्रबल संभावनाएं हैं.

वॉटर साइंस: यह जल की सतह से जुड़ा विज्ञान है. हिमस्खलन और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं को देखते हुए इस फील्ड में रिसर्चर्स की डिमांड बढ़ रही है. ये रिसर्च के लिए अच्छा ऑप्शन है.

माइक्रो-बायोलॉजी: माइक्रो-बायोलॉजी में एंट्री के लिए बीएससी इन लाइफ साइंस या बीएससी इन माइक्रो-बायोलॉजी कोर्स कर सकते हैं. इसके बाद मास्टर डिग्री और पीएचडी भी का ऑप्‍शन भी है. इसके अलावा पैरामेडिकल, मरीन बायोलॉजी, बिहेवियरल साइंस, फिशरीज साइंस जैसे कई फील्ड्स हैं, जिनमें साइंस में रुचि रखने वाले स्टूडेंट्स अच्छा करियर बना सकते हैं.

डेयरी साइंस: साइंस सब्जेक्ट से 12वीं करने के बाद स्टूडेंट ऑल इंडिया बेसिस पर एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद चार वर्षीय स्नातक डेयरी टेक्नोलॉजी के कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं. कुछ इंस्टीट्यूट डेयरी टेक्नोलॉजी में दो वर्षीय डिप्लोमा कोर्स भी ऑफर करते हैं. इसके तहत मिल्क प्रोडक्शन, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, स्टोरेज और डिस्ट्रिब्यूशन की जानकारी दी जाती है..

इसी तरह बीएससी नर्सिंग, बीएससी इन फार्मेसी, बैचलर ऑफ साइंस और बैचलर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन के बाद करियर में संभावनाएं हैं लेकिन उसके लिए 12वीं साइंस स्ट्रीम से ही होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें-
UP board result 2019: 20 अप्रैल नहीं, इस दिन आ सकता है 10वीं-12वीं का रिजल्ट

UP Board Result 2019: नंबरों से संतुष्ट नहीं होने पर भर सकते हैं स्क्रूटनी फॉर्म, ये है प्रक्रिया

UP Board Result 2019: बिना इंटरनेट, ऑफिशियल वेबसाइट के अलावा ऐसे देखें रिजल्ट

अपना स्‍कोर आसानी से चेक करने और सबसे पहले रिजल्‍ट देखने के लिए hindi.news18.com पर जाएं.
करियर और जॉब्स से संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज