UPSC इंजीनियरिंग सर्विस & Geo-Scientist 2020 मेन एग्जाम स्थगित, पढ़ें डिटेल

UPSC इंजीनियरिंग सर्विस & Geo-Scientist 2020 मेन एग्जाम स्थगित, पढ़ें डिटेल
ये एग्जाम 8 और 9 अगस्त को आयोजित होने वाले थे.

UPSC CGS और भूवैज्ञानिकों की परीक्षाएं (Geologist mains examinations) 8 और 9 अगस्त को आयोजित होने वाली थीं, वे स्थगित कर दी गई हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission, UPSC) ने इंजीनियरिंग सेवा (Engineering Services (Main) परीक्षा 2020 और भू-वैज्ञानिक परीक्षा (Geo-Scientist Main Examination), 2020 को अगली सूचना तक स्थगित कर दिया है.

UPSC CGS और भूवैज्ञानिकों की परीक्षाएं (Geologist mains examinations) 8 और 9 अगस्त को आयोजित होने वाली थीं, वे स्थगित कर दी गई हैं. इस संबंध में जानकारी आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध है.

इस बीच, आयोग ने उन उम्मीदवारों के लिए एक विकल्प दिया है जो सिविल सेवा के लिए अपने परीक्षा केंद्र को बदलना चाहते हैं. कैंडिडेट्स अपना सेंटर दो चरणों में upsconline.nic.in के जरिए बदल सकते हैं. पहले चरण में एग्जाम सेंटर के लिए विंडो 7-13 जुलाई 2020 के बीच खुलेगी. एग्जाम सेंटर करेक्शन के लिए दूसरे चरण में विंडो 20-24 जुलाई के बीच खुली रहेगी.



केंद्र में बदलाव की अनुमति
यूपीएससी द्वारा परीक्षा केंद्र में बदलाव की अनुमति इसलिए दी गई है क्योंकि कई उम्मीदवारों को अपने घर या कस्बों से 4 अक्टूबर की परीक्षा के लिए यात्रा करनी होगी जो उनके लिए स्वास्थ्य के लिए खतरा है. उम्मीदवारों ने आयोग से अनुरोध किया था कि एनटीए और जेईई मेन परीक्षा 2020 के जैसे परीक्षा केंद्रों को बदलने की अनुमति दी जाए.

यूपीएससी ने बयान जारी कर कहा, सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा, 2020 (भारतीय वन सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा, 2020 सहित) के उम्मीदवारों की बड़ी संख्या को ध्यान में रखते हुए और उन्हें एग्जाम सेंटर बदलने का अवसर देने का निर्णय लिया है.

यहां देखें ऑफिशियल नोटिस- https://www.upsc.gov.in/sites/default/files/CSP-IFS-2020-Notice-centre-choice-Engl.pdf

ये भी पढ़ें-
HPSOS 8th, 10th results 2020 : हिमाचल बोर्ड ने जारी किए 8वीं और 10वीं के नतीजे, hpbose.org पर करें चेक

UPSC Prelims 2020: कैंडिडेट्स बदल सकते हैं 4 अक्टूबर 2020 को होने वाले UPSC prelims exam का सेंटर

उम्मीदवार ध्यान दें कि सेंटर्स पहले आओ पहले पाओ के आधार पर आवंटित किए जाएंगे. उन्हें केंद्र परिवर्तन के लिए सबसे बड़ी सावधानी के साथ आवेदन करना चाहिए, क्योंकि आयोग द्वारा अनुमति मिलने के बाद ही उन्हें बदलना होगा. जारी किए गए नोटिस के अनुसार, जिन उम्मीदवारों को अपनी पसंद का केंद्र नहीं मिला, उन्हें शेष में से एक केंद्र चुनना होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज